मुजफ्फरनगर में महिला यात्री से धक्कामुक्की करने पर रोडवेज परिचालक की जमकर धुनाई, जाम लगाया

 
न
मुजफ्फरनगर। हरिद्वार से मुजफ्फरनगर आ रही रोडवेज बस के परिचालक से बस से उतारने को लेकर महिला यात्री व परिचालक के बीच हुई धक्का-मुक्की के पश्चात महिला द्वारा छेड़छाड़ का आरोप लगाने पर शिवसैनिकों एवं महिला के रिश्तेदारों ने परिचालक को जमकर धुना। बाद में चालक-परिचालक को सिविल लाइन थाना पुलिस को सौंप दिया।  इस बात की जानकारी मिलने पर रोडवेज के चालक-परिचालकों ने जाम लगाकर हंगामा शुरू कर दिया। सूचना पाकर पहुंचे पुलिस के आलाधिकारियों ने रोडवेज बस चालक को छुड़वाया, तब जाकर जाम खुला। परिचालक पुलिस हिरासत में रहा।
बताया जाता है कि रोडवेज बस हरिद्वार से स्थानीय रोडवेज अड्डे पर आ रही थी, जब बस रेलवे स्टेशन के निकट पहुंची, तो बस में सवार एक महिला की बस से उतारने को लेकर परिचालक से कहासुनी और धक्का-मुक्की हो गई। महिला ने शिवसेना पदाधिकारियों एवं अपने रिश्तेदारों को फोन कर मौके पर बुला लिया। शिवसैनिकों ने रेलवे स्टेशन रोड पर जमकर हंगामा करते हुए परिचालक को बस से खींचकर उसकी जमकर धुनाई की। महिला के समर्थकों ने इसके पश्चात चालक-परिचालक को थाना सिविल लाइन पुलिस को सौंप दिया। घटना की सूचना जैसे ही रोडवेज बस स्टैंड पर पहुंची, तो परिवहन विभाग के कर्मचारियों ने सड़क पर बसें लगाकर सड़क को जाम कर हंगामा शुरू कर दिया। घटना की सूचना पाकर पुलिस विभाग के आलाधिकारी नगर के तीनों थानों की पुलिस को लेकर रोडवेज बस स्टैंड पहुंचे और जाम लगा रहे परिवहन विभाग के चालक-परिचालकों को समझाने का प्रयास किया, परन्तु उत्तेजना से भरे परिवहन विभाग के कर्मचारी चालक व परिचालक की रिहाई तक जाम न खोलने की जिद पर अड़े रहे। पुलिस अधिकारियों ने बस चालक को थाने से छुड़ाकर उनके बीच पहुंचाया, तब जाकर जाम खुला। परिचालक महिला के साथ छेड़छाड़ करने के आरोप में सिविल लाइन थाने के हवालात में बंद है। पुलिस आरोपी से इस मामले में पूछताछ कर रही है। इधर परिचालक के खिलाफ थाने पर कोई भी तहरीर नहीं दी गई है। पुलिस सूत्रों का कहना था कि फिलहाल परिचालक को हिरासत में रखा गया है। हिंदू संगठनों का गुस्सा देखते हुए आरोपी के खिलाफ शांतिभंग की धाराओं में लिखा-पढ़ी की जा सकती है।

From around the web