मुज़फ्फरनगर में मतगणना में टूटे कोरोना प्रोटोकॉल, भारी भीड़ में ही घूमते रहे कोरोना पॉजिटिव, फैलाते रहे संक्रमण !

 
मुज़फ्फरनगर में मतगणना में टूटे कोरोना प्रोटोकॉल, भारी भीड़ में ही घूमते रहे कोरोना पॉजिटिव, फैलाते रहे संक्रमण !

जानसठ। कस्बा जानसठ में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना डीएवी इंटर कॉलेज जानसठ में सुबह सवेरा ही शुरू हो गई। लेकिन प्रधान प्रत्याशी, बीडीसी प्रत्याशियों, ग्राम पंचायत सदस्य प्रत्याशियों, जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशियों के एजेंटों की भारी भीड़ देखते ही बनती थी। मतगणना थोड़ा धीमी गति से आगे बढऩा शुरू हुई और काफी समय तक गांवों में केवल दो या तीन वार्ड ही खुल पाए। लेकिन कई छोटे गावो की मतगणना दोपहर बाद तक पूर्ण कर ली गई थी। जिसमें बाजीदपुर कव्वाली प्रधान पद पर अनिल  विजय हुए, उत्तरी घटायन में रीना देवी विजयी हुई, रहड़वा से पिंकी देवी, जलालपुर से श्रीमती राकेश, अहरोड गांव से तिरुभवन विजयी घोषित हुए, तो वही नंगली महासिंह से विपुल प्रधान पद पर विजयी हुए, लेकिन  देर रात तक मतगणना जारी थी, जिसमें कई प्रत्याशियों की किस्मत लगातार आगे पीछे चल रही थी और लोग वहां पर जमे हुए थे।
कोविड-19 गाइडलाइन का नहीं किया गया पालन:

मतगणना स्थल पर भारी भीड़ को देखते हुए मानो ऐसा लग रहा था जैसे जनता को इस महामारी का कोई एहसास या खतरा बिल्कुल ना हो और वह इलेक्शन के चक्कर में इस महामारी को बिल्कुल भूल गए, जबकि यह महामारी अपनी चरम पर है। फिर भी लोग एक दूसरे से सटे खड़े रहे किसी भी तरह की सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया। जिससे लगातार कोरोना वायरस के फैलने का खतरा वहां पर बना रहा।
सीएचसी जानसठ की हेल्प डेस्क भी वहां पर मौजूद थी:

सीएचसी हेल्प डेस्क पर लोगों ने अपना कोई टेस्ट भी कराया,सूत्रों से पता चला, कि कई लोग टेस्ट कराने पर वहां पॉजिटिव आए गए। अब इतनी भीड़ में वे लोग भी इधर-उधर घूम रहे होंगे या मिल रहे होंगे, तो इस हालत में इस भीड़ में क्या हुआ होगा, यह बताने की जरूरत नही है और कितने लोग इसमें पॉजिटिव हुए होंगे या मिलेंगे, कुछ कहा नहीं जा सकता, जब इस संबंध में सीएचसी प्रभारी डा. अशोक कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया, कि कितने पॉजिटिव आए हैं यह मुझे मालूम नहीं है अभी मैं पूछ कर बताता हूं लेकिन उसके बाद उनसे कोई बातचीत नहीं हो पाई।
पुलिस फोर्स अपना काम बखूबी करती रही:

डीएसपी शकील अहमद व इंस्पेक्टर डीके त्यागी अनाउंसमेंट के जरिए लोगों को कोविड-19 के बारे में समझाते जरूर नजर आए और व्यवस्था को लेकर भी लोगों को बार-बार अनाउंसमेंट के जरिए समझाते नजर आए, कि कहीं कोई किसी तरह की दिक्कत पैदा ना हो, लेकिन फिर भी भीड़ के आगे एक नहीं चली और लोग एक दूसरे पर चढ़े हुए नजर आए।
अव्यवस्थाओं का बोलबाला:

मतदान केंद्र पर अव्यवस्थाओं का बोलबाला रहा और उन लोगों को सही तरीके से गेट पर सैनिटाइजर भी नही किया गया। लोगों की इतनी भीड़ और ऊपर से इतनी गर्मी होने के बावजूद भी पानी की किल्लत लगातार बनी रही। हालांकि पूर्ति विभाग ने खाना व पानी का बंदोबस्त किया हुआ था, लेकिन पानी के लिए लोग तरसते जरूर नजर आए और बार-बार पानी मांगते नजर आए लेकिन पानी का सही इंतजाम वहां देखने को नहीं मिला।

From around the web