विद्युत तारों की चपेट में आने से किसान की मौत, हंगामा, मुआवजा मिलने पर ही माने ग्रामीण

 
न

चरथावल। थाना क्षेत्र में आज सुबह खेत पर खीरे तोडऩे गए  एक युवक की जमीन पर गिरे बिजली के तारों की चपेट में आने से दर्दनाक मौत हो गई। घटना के बाद उत्तेजित ग्रामीणों ने जमकर हंगामा किया और  बिजली विभाग की लापरवाही के चलते युवक की मौत होने का आरोप लगाया। घटना की सूचना पाकर पुलिस भी तत्काल मौके पर पहुंची, मगर उत्तेजित ग्रामीणों ने पुलिस को मौके से युवक का शव नहीं उठाने दिया,  घटना की सूचना मिलते ही भारतीय किसान यूनियन के सदर तहसील अध्यक्ष विकास शर्मा चरथावल ब्लॉक अध्यक्ष ठाकुर कुशलवीर सिंह व युवा ब्लॉक अध्यक्ष संजय सैनी मौके पर पहुंचे तथा तत्काल पीडि़त परिवार को मुआवजा व मृतक के परिवार को नौकरी देने तथा विद्युत अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।  सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे नायब तहसीलदार एसडीओ ने समझा बुझाने का प्रयास किया परंतु नहीं माने, बाद में 5 घंटे बाद मौके पर पहुंचे एक्सईएन ने मृतक के परिजनों को 5 लाख के मुआवजे का चेक व परिवार के एक सदस्य को नौकरी तथा तुरंत जर्जर तारों को बदलवाने के आश्वासन पर पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेजा। 
चरथावल क्षेत्र के गांव महाबलीपुर के जंगल में टूटे पड़े एलटी लाइन के तार की चपेट में आकर करंट लगने से एक युवक की मौत हो गई। ग्रामीणों ने विद्युत विभाग की लापरवाही से युवक की जान जाने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। वहीं परिजनों ने पुलिस को शव उठाने नहीं दिया।दरअसल ग्राम महाबलीपुर निवासी 20  वर्षीय अंकित बुधवार सुबह पांच बजे खेत पर खीरे तोडऩे गया था। वहीं पर टूटे पड़े बिजली के तार की चपेट में आकर उसकी मौके पर मौत हो गई।
अंकित के घर नहीं आने पर परिजन मौके पर पहुंचे, तो वहां उसका शव पड़ा मिला। सूचना मिलने के बाद ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए। उधर, सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची, तो ग्रामीणों ने शव उठने नहीं दिया। हंगामा कर रहे ग्रामीण मौके पर अधिकारियों को बुलाने की मांग पर अड़े रहे ।

घटना की सूचना मिलते ही भारतीय किसान यूनियन के सदर तहसील अध्यक्ष विकास शर्मा,चरथावल ब्लॉक अध्यक्ष ठाकुर कुशलवीर सिंह व युवा ब्लॉक अध्यक्ष संजय सैनी मौके पर पहुंचे तथा तत्काल पीडि़त परिवार को मुआवजा व मृतक के परिवार को नौकरी देने तथा विद्युत अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।  सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे नायब तहसीलदार एसडीओ ने समझा बुझाने का प्रयास किया, परंतु नहीं माने, बाद में 5 घंटे बाद मौके पर पहुंचे एक्सईएन ने मृतक के परिजनों को 5 लाख के मुआवजे का चेक व परिवार के एक सदस्य को नौकरी तथा तुरंत जर्जर तारों को बदलवाने के आश्वासन पर पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेजा। चरथावल थाना क्षेत्र में 10  दिन पहले भी चौकड़ा गांव के जंगल में एसएसओ की लापरवाही से संविदा कर्मी की करंट से मौत हो गई थी।

From around the web