मुज़फ्फरनगर में बेटा ही निकाला पिता का कातिल, पुलिस ने किया खुलासा, आरोपी किया गिरफ्तार

 
न


खतौली। बेटा ही  बाप का क़ातिल निकला है । कोतवाली पुलिस ने एक माह पूर्व हुए हत्याकाण्ड का खुलासा करके हत्यारोपित युवक को जेल रवाना कर दिया।

बीती 18 अगस्त को गाँव रुकुनपुर निवासी ऋषिपाल सिंह का रक्तरंजित शव पड़ोस के गाँव खेड़ी रांगडान निवासी ओमप्रकाश के ईंख के  खेत से बरामद हुआ था। मृतक के पुत्र सुमित कुमार ने अपने पिता ऋषिपाल की हत्या करने का आरोप गाँव के ही रहने वाले युवकों मोहन पुत्र चमन सिंह, आदेश पुत्र समय सिंह, नितीश पुत्र शीशपाल पर लगाकर इनके विरुद्ध नामजद मुकदमा दर्ज कराया था। सुमित के अनुसार मोहन ने उसके पिता से कुछ रूपये ब्याज़ पर लिये थे, ब्याज़ व मूल रक़म लौटाने का तकादा करने पर मोहन ने अपने साथियों आदेश व नीतीश के साथ मिलकर उसके पिता की हत्या कर दी।

कोतवाल यशपाल सिंह ने बताया कि गहनता से विवेचना करने पर वादी सुमित के द्वारा ही अपने पिता ऋषिपाल की हत्या करना पाया गया। वादी अभियुक्त सुमित कुमार को इसके घर से गिरफ्तार कर सख़्ती से पूछताछ करने पर उसने अपने पिता की हत्या करने की स्वीकारोक्ति कर ली। हत्यारोपित सुमित के अनुसार पिता मृतक ऋषिपाल ने दो वर्ष पूर्व दो बीघा जमीन बेचने के अलावा बैंक से ऋण भी लिया था। ज़मीन बेचने व लोन लेने से आयी रक़म में से कुछ रुपये मांगने पर पिता  ऋषिपाल ने रुपये देने से साफ मना कर दिया था, जिसे लेकर दोनों में विवाद रहने लगा था। शराब पीने के आदि पिता ऋषिपाल के गाँव के ही रहने वाले एक व्यक्ति के साथ समलैंगिक सम्बन्ध थे। सुमित ने बताया कि गाँव मे बदनामी होने व सारी ज़मीन बेचने की फिराक में लगे रहने के चलते उसने अपने पिता ऋषिपाल की चाकू से गला रेतकर हत्या करने के बाद शव ओमप्रकाश के खेत में फेंक दिया था। किसी को शक ना हो इस कारण से गाँव के ही रहने वाले तीन युवकों के विरुद्ध नामजद मुक़दमा दर्ज करा दिया था। पुलिस ने हत्यारोपित सुमित की निशानदेही पर आला ए क़त्ल चाकू व मृतक का मोबाईल फोन बरामद कर जेल रवाना कर दिया। पुलिस द्वारा सगे बेटे द्वारा अपने पिता की हत्या किये जाने का खुलासा किये जाने से ग्रामीण भारी हैरत में हैं। गुडवर्क करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक यशपाल सिंह, उप निरीक्षक नितिन कुमार, कांस्टेबल अरविन्द कुमार, सत्यवीर सिंह शामिल रहे ।

From around the web