मुजफ्फरनगर में रिश्वत मांगने वाले लेखपाल के विरुद्ध कार्रवाई, हुआ निलंबित, विभागीय जांच शुरू

 
1

खतौली। किसान से ज़मीन नपाई के नाम पर रिश्वत मांगने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होना रिश्वतखोर लेखपाल को भारी पड़ा। मामला आला अधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद एसडीएम इन्द्रकान्त द्विवेदी ने रिश्वतखोर लेखपाल रमेश कुमार को निलंबित कर दिया है।

जानकारी के अनुसार कस्बे के मोहल्ला तगान निवासी संजय वर्मा सर्राफ ने गांव मुजाहिदपुर में अपनी पत्नी के नाम से दो बीघा ज़मीन किसान मनोज से खरीदी थी। बताया गया कि मनोज का अपने तीन भाइयों से बेची गयी ज़मीन का हिस्सा तक़सीम का मामला न्यायालय में विचाराधीन है। जिसके चलते संजय वर्मा को खरीदी गयी ज़मीन पर कब्ज़ा मिलना दुश्वार हो रहा है। संजय वर्मा का आरोप है कि लेखपाल रमेश द्वारा ज़मीन पर कब्ज़ा दिलाने के नाम पर पचास हज़ार रुपये रिश्वत मांगी जा रही थी। संजय वर्मा ने चुपचाप लेखपाल द्वारा रिश्वत मांगने की वीडियो बनाकर इसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। लेखपाल रमेश कुमार द्वारा रिश्वत मांगने का वीडियो वायरल होते ही तहसील प्रशासन में हड़कम्प मच गया।

चर्चा है कि संजय वर्मा द्वारा अपने एक सहयोगी की सहायता से लेखपाल द्वारा रिश्वत मांगने का वीडियो कई दिन पहले बनाया गया था। बताया गया कि  रिश्वत मांगने का वीडियो संजय वर्मा के हाथ से निकलकर कुछ और लोगों के हाथ लगने पर उन्होंने अपना फीलगुड करने के लिये लेखपाल को ब्लैकमेल करने का प्रयास किया। रिश्वत मांगने वाले वीडियो के वायरल होने से रायता बिखरता देख लेखपाल ने 18 जुलाई को ज़मीन बेचने वाले पक्ष से खरीदने वाले पक्ष का फैसला करा दिया था। फैसले के अनुसार खरीदी गयी ज़मीन संजय द्वारा 5 लाख रुपये में वापस बेचने वाले को लौटाने की बात लिखित में तय हुई थी। चर्चा है कि मामला निपटता देख अपने हाथ कुछ ना लगता देखकर लेखपाल को ब्लैकमेल करके फीलगुड करने का प्रयास करने वाले ने खिन्न होकर रविवार को वीडियो वायरल कर दी। लेखपाल द्वारा रिश्वत मांगने का मामला आला अधिकारियों के संज्ञान में आने के अलावा विपक्षी दलों के कुछ नेताओं द्वारा भाजपा शासन में भ्रष्टाचार व्याप्त होने का आरोप लगाये जाने से प्रकरण और संगीन हो गया। बताया गया एसडीएम इन्द्रकान्त द्विवेदी ने रिश्वत मांगने के आरोपी लेखपाल को निलंबित कर विभागीय जाँच शुरू करा दी।  

From around the web