मुज़फ्फरनगर में कोविड-19 महामारी सरकारी लोन योजना के नाम पर पीएनबी ने खोले फर्जी खाते, लोन की रकम का भी किया गबन

 
न

मुजफ्फरनगर। कोविड महामारी में पंजाब नेशनल बैंक ने लोन बांटने के लिए किसान के फर्जी खाते खोलकर फर्जीवाड़ा किया है। 

थाना सिखेडा क्षेत्र के गांव जटमुझेडा निवासी रामपाल ने प्रधानमंत्री व बैंकिंग लोकपाल, पीएनबी भारत सरकार देहरादून हैड आफिस को एक शिकायती पत्र भेजते हुए बताया कि कोविड-19 महामारी में सरकारी लोन योजना के नाम पर पंजाब नेशनल बैंक द्वारा फर्जी लोन खाते खोलकर लोन की रकम गबन कर ली है। जटमुझेडा निवासी रामपाल पुत्र शेरसिंह ने बताया कि उनका बैंक खाता पंजाब नेशनल बैंक शाखा जटमुझेडा में खुला हुआ है। शाखा प्रबंधक उदयवीर सिंह व उनके सहयोगी कर्मचारी ने मेरे नाम पर  कोविड-19 महामारी लोन खाता खोलकर मेरा लोन स्वीकृत कर दिया, जबकि मैने कोई आवेदन भी नहीं किया है। बैंक शाखा प्रबंधक ने मेरे दस्तावेजों का दुरूपयोग करते हुए लोन स्वीकृत किया है ओर सात माह 14 दिन बाद मेरा लोन खाता बंद कर दिया। इस मामले में जांच पडताल के बाद पता चला कि शाखा प्रबंधक ने अपने अधिकारों का दुरूपयोग कर छलकपट व धोखाधडी की नीयत से यह कृत्य किया है। शाखा प्रबंधक  व उसके सहयोगियों ने बैंक में बहुत से ग्राहकों के साथ भी कोविड-19 महामारी लोन धोखाधडी की है और सरकारी धन का भी दुरूपयोग किया है। आरोप है कि छलकपट व धोखाधडी कर गरीबों को दी जा रही सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है और  बैंककर्मी लोगों का हक खा रहे है। पीडित रामपाल ने आरोप लगाया कि बैंक प्रबंधक ने उनके साथ व उनके भतीजे नितिन कुमार के साथ भी अभद्र व्यवहार किया और गाली गलौच करते हुए हाथ पकड कर बैंक  से बाहर निकाल दिया। इस सम्बंध में निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए बैंक अधिकारी के विरूद्ध सख्त कार्यवाही कर मुकदमा दर्ज कराने की मांग भी पीडित ने की है।

From around the web