डीएम ने बच्चों को विटामिन ए की खुराक पिलाकर किया बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारंभ 

 
व
शामली। जनपद के सदर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) पर जिलाधिकारी जसजीत कौर ने शनिवार को बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारंभ किया गया। उन्होंने अपने हाथों से नौनिहालों को विटामिन ए की खुराक पिलाई और स्वास्थ्य कर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इस दौरान सदर सीएचसी प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. रामनिवास समेत दर्जनों स्वास्थ्य कर्मी मौजूद रहे।
जिलाधिकारी ने इस अवसर पर कहा- बाल स्वास्थ्य पोषण माह को लेकर अभिभावकों को जागरूक किया जाए। पूरी कोशिश रहे कि कोई बच्चा विटामिन-ए और आयरन की खुराक से छूट न जाए।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संजय अग्रवाल ने बताया स्वास्थ्य विभाग द्वारा साल में दो बार बाल स्वास्थ्य पोषण माह चलाया जाता है, जिसके अन्तर्गत नौ माह से पांच वर्ष के बच्चों को हर छह माह के अंतराल पर विटामिन ए की खुराक दी जाती है। शनिवार को जिलाधिकारी जसजीत कौर ने बच्चों को अपने हाथों से विटामिन ए की खुराक पिलाकर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के अन्तर्गत एक माह तक जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में नौ माह से पांच वर्ष तक के बच्चों को प्रति बुधवार और शनिवार को विटामिन ए की डोज दी जाएगी। जिले में नौ माह से पांच वर्ष आयु तक के 154950 बच्चे हैं। विटामिन-ए की एक साल तक के बच्चों को आधा चम्मच और एक से पांच वर्ष आयु तक वालों को एक चम्मच खुराक पिलाई जाएगी। साथ ही आयरन की खुराक की 50 एमएल की शीशी भी दी जाएगी। सप्ताह में दो बार एक-एक एमएल दवा आशा कार्यकर्ता बच्चों को पिलाएंगी। इन दोनों खुराक से बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी और निमोनिया, डायरिया, कोरोना संक्रमण से भी बचाव होगा।
सीएमओ ने बताया- विटामिन-ए वसा में घुलनशील विटामिन है,  जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। अभियान के दौरान सभी अभिभावक अपने नौ माह से पांच साल तक की उम्र के बच्चों को विटामिन-ए की खुराक अवश्य पिलाएं, जिससे कि वह पोषित रह सकें। उन्होंने बताया बच्चों में विटामिन-ए की कमी को दूर करना ही इस अभियान का मुख्य उद्देश्य है ।

From around the web