भ्रूण हत्या की शिकायत पर हरियाणा स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शामली के अस्पताल में की छापेमारी

 
व


शामली। एक ओर जहां देश के प्रधानमंत्री बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा दे रहे है वही दूसरी ओर चंद रुपयों के लालच में कुछ डॉक्टर भ्रूण हत्या कर बेटियों को गर्भ में ही मार रहे है। भ्रूण हत्या का ये खुलासा शामली के एक हॉस्पिटल पर हरियाणा स्वास्थ विभाग की टीम के छापे के बाद हुआ है। हरियाणा स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ऑपरेशन थियेटर में स्टूमेंट कब्जे में लेकर अग्रिम कार्यवाही शुरू कर दी है। इस दौरान पुलिस भी मौके पर मोजूद रही।
आपको बता दें कि थाना आदर्श मंडी क्षेत्र के एमएसके रोड स्थित एक निजी हॉस्पिटल का विवादों से पुराना नाता रहा है। हॉस्पिटल में स्वास्थ विभाग की मिलीभगत के चलते लिंग जांच और भ्रूण हत्या का धंधा जोरों पर चल रहा है। जहां बुधवार को हरियाणा के जिला करनाल निवासी महिला के गर्भ में पल रही मासूम बेटी की भ्रूण हत्या का मामला सामने आया है। जिसकी शिकायत पर हरियाणा के जिला करनाल से एक स्वास्थ विभाग की टीम द्वारा अस्पताल में छापेमारी की गई। जिसके चलते अस्पताल में हड़कंप मच गया। हरियाणा स्वास्थ विभाग की टीम की छापेमारी में पाया कि करनाल निवासी एक महिला की उसके पति द्वारा यमुनानगर मे लिंग जांच कराई गई थी। जिसमें बेटी का होना बताया गया था। जिसके बाद उक्त युवक ने अपनी पत्नी को शामली के हॉस्पिटल में भर्ती कराया जहां डॉक्टरों ने एक बेटी को दुनिया में आने से पहले हीं रुखसत कर दिया। हांलाकि जब इस मामले में आरोपी पति से बात की गई तो वह मामले से बचने के लिए तरह-तरह की दलील देता नजर आया और अपने कृत्य के लिए हाथ जोड़कर माफी मांगता दिखा लेकिन किसी भी बात का संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया। वही हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ऑपरेशन थियेटर में रखे स्टूमेट कब्जे में ले लिए है। वही अस्पताल में छापेमारी की सूचना पर सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस भी मौके पर मौजूद रही। हरियाणा स्वास्थ विभाग की टीम की छापेमारी के बाद भ्रूण हत्या का मामला सामने आने से शामली के स्वास्थ विभाग की कार्य शैली पर प्रश्नचिन्ह लगना लाजमी है।

From around the web