शामली में सरकारी दावे निकल रहे है फर्जी, वैक्सीन सेंटर पड़े है खाली, सेंटर के बाहर बैठे है लोग इन्तजार में !

 
न

शामली। डीएम जसजीत कौर द्वारा जनपद में शत-प्रतिशत कोरोना वैक्सीनेशन के निर्देश देने के बावजूद भी चिकित्सा विभाग वैक्सीनेशन में पूरी तरह लापरवाही बरत रहा है। स्वास्थ्य कर्मचारी अपनी ड्यूटी से गायब रहते हैं जिससे वैक्सीनेशन कराने आए लोगों को घंटों इंतजार में बैठा रहना पड रहा है। बुधवार को भी राजकीय चिकित्सालय में न तो कोरोना रजिस्ट्रेशन करने वाले कर्मचारी ही नजर आए, वहीं वैक्सीनेशन करने वालों की कुर्सियां भी खाली दिखाई दी। मरीज घंटों तक इंतजार में बैठे रहे।

जानकारी के अनुसार देश में कोरोना के मामले अब बेहद कम सामने आ रहे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सभी जनपदों व नगरों में शत-प्रतिशत कोरोना वैक्सीनेशन के निर्देश दे रखे हैं। शासन के निर्देशों के बाद डीएम जसजीत कौर ने भी पिछले दिनों स्वास्थ्य विभाग की मीटिंग लेकर जिले में शत-प्रतिशत कोरोना वैक्सीनेशन के कडे निर्देश दिए थे लेकिन इसके बावजूद भी स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह लापरवाही बरत रहा है। आलम यह है कि कोरोना वैक्सीनेशन का रजिस्ट्रेशन करने वाले अक्सर गायब रहते हैं, वहीं टीकाकरण करने वाले कर्मचारियों की कुर्सी भी खाली पडी रहती है

न

जबकि कक्षों के बाहर वैक्सीनेशन कराने वाले लोगों की लंबी लाइन लगी रहती है। बुधवार को भी सरकारी अस्पताल में ऐसा ही मामला देखने को मिला जहां वैक्सीनेशन कैंप पर कर्मचारियों की कुर्सियां खाली पडी रही, रजिस्ट्रेशन करने वाले भी कहीं नजर नहीं आए। कक्षों के बाहर महिलाएं व पुरुष घंटों इंतजार में बैठे रहे। वैक्सीनेशन कराने आई बनत निवासी एक महिला ने बताया कि वह काफी समय से कक्ष के बाहर बैठे हैं लेकिन न तो अभी तक रजिस्ट्रेशन करने वाले आए और न ही टीकाकरण टीम दिखाई दी। वैक्सीनेशन को लेकर कर्मचारियों द्वारा बेहद लापरवाही बरती जा रही है, वहीं अन्य लोगों ने भी यही आरोप लगाए। 

From around the web