शामली में स्कूल, कॉलेजों में कोविड-19 वैक्सीनेशन के कैंप का आयोजन

 
व
शामली। जिले में कोरोना संक्रमण में इजाफा होने व शासन द्वारा 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन कराने के निर्देश के बाद डीएम जसजीत कौर के निर्देश पर जनपद के स्कूल, कालेजों में कोविड-19 वैक्सीनेशन के कैंपों का आयोजन किया जा रहा हैै। कैंप में 15 से 18 साल की आयु के बच्चों का वैक्सीनेशन कार्य तेजी से किया जा रहा है। दूसरी ओर राजकीय चिकित्सालय में भी बडों के साथ-साथ बच्चों के लिए खोले गए कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर पर भी भीड लगी हुई है। 
जानकारी के अनुसार देश व प्रदेश में कोविड संक्रमण के केसों में इजाफा होने के बाद सरकार भी वैक्सीनेशन की गति बढाने के काम में जुटी हुई है। प्रदेश शासन ने भी सभी जिलों में वैक्सीनेशन की गति बढाने तथा 15 से 18 साल के बच्चों का भी वैक्सीनेशन कराने के निर्देश दिए हैं। शासन के निर्देश के बाद डीएम जसजीत कौर के निर्देश पर स्कूल, कालेजों में वैक्सीनेशन कैंपों के आयोजन किए जा रहे हैं जहां बच्चों का वैक्सीनेशन तेजी के साथ किया जा रहा है। शहर के सिल्वर बैल्स पब्लिक स्कूल में तीन दिवसीय वैक्सीनेशन कैंप का आयोजन किया गया है जहां 15 से 18 साल के छात्र-छात्राओं को कोरोना वैक्सीन लगायी जा रही है। वैक्सीन लगवाने के लिए बच्चांे में अच्छा खासा उत्साह भी देखने को मिल रहा है। स्कूल के प्रधानाचार्य डा. अरूण कुमार गोयल ने बताया कि बच्चों के टीकाकरण के लिए स्कूल प्रांगण में कैंप का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन बेहद जरूरी है जिससे इस महामारी को बढने से रोका जा सकता है। उन्होंने बताया कि वैक्सीनेशन सभी के लिए जरूरी है, उन्होंने अभिभावकों से भी अपील की कि वे अपने 15 से 18 साल के बच्चों को कोरोना वैक्सीन जरूर लगवाएं तथा अन्य अभिभावकों को भी इसके प्रति जागरूक करें। दूसरी ओर राजकीय चिकित्सालय में भी वैक्सीन लगवाने वाले लोगों की भीड लगी हुई है। बडी उम्र के लोगों के साथ-साथ 15 से 18 साल के बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए भी सेंटर खोला गया है जहां टीकाकरण कराने वालों की लाइन लगी हुई है, हालांकि सोमवार को बच्चों के सेंटर पर कम ही संख्या में युवा टीकाकरण के लिए पहुंचे लेकिन टीकाकरण को लेकर नवयुवाओं में काफी उत्साह है। 

From around the web