शामलीः अनाथ बच्चों का हाल जानने पहुंचे मंडलायुक्त

 
1

शामली। कोरोनावायरस महामारी के कहर के चलते अपने माता पिता को खो चुके अनाथ बच्चों से मिलने के लिए मंडलायुक्त ए वी राजमौली व जिलाधिकारी जसजीत कौर गांव लिसाढ पहुंचे। जहां उन्होंने तीनों अनाथ बच्चों की हौसला अफजाई करते हुए तीनों बच्चों का पालन पोषण की जिम्मेदारी सरकार द्वारा निर्वहन करने की बात कही है।

आपको बता दे कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते देश प्रदेश में सैकड़ों बच्चों ने अपने माता पिता को खोया है। ऐसे अनाथ बच्चों की देखभाल और पढ़ाई लिखाई का खर्च उठाने का जिम्मा अब सरकार द्वारा लिया गया है। कोरोनावायरस महामारी में अपने माता पिता को खोने वाले ऐसे ही तीन बच्चें जनपद के गांव लीसध में भी है। जिनका हाल जानने के लिए बुधवार को मंडलायुक्त सहारनपुर ए वी राजमौली एवं जिलाधिकारी जसजीत कौर जनपद के गांव लिसाढ पहुंचे। जहां मंडलायुक्त और जिलाधिकारी को देखते ही अनाथ बच्चों के चेहरे खिल उठे। मंडलायुक्त और जिलाधिकारी द्वारा बच्चो से मुलाकात कर उनसे बातचीत की गई, कि बच्चों को कहीं कोई परेशानी तो नहीं है। इस दौरान सबकुछ ठीक पाया गया। मंडलायुक्त ने जानकारी देते हुए बताया कि आज हम शामली जनपद के गांव लिसाढ पहुंचे है। जहां तीन बच्चों दो लड़के एवं एक लड़की के माता पिता की मृत्यु कोवि़ड के कारण हुई है। उन्होंने कहा कि जब तक ये तीनों बच्चें बालिग होते है तब तक एक सरकारी अधिकारियों की एक टीम बनाई गई है। उसकी देखरेख में ही इन तीनों बच्चो की पढ़ाई लिखाई, रहन-सहन,  खान-पान आदि कार्य उनकी देखरेख में होगा। उन्होंने कहा कि बच्चों की कुशलक्षेम जानने के लिए समय समय पर जिलाधिकारी आते रहेंगे। वहीं शासन को डीएम द्वारा बच्चों के बारे में लिखा जा चुका है। शासन द्वारा जो भी लाभ इन बच्चो को दिया जाएगा वो इन्हे समय से मिल जाएगा। इसके अलावा डीएम द्वारा सामाजिक संस्थाओं को भी बच्चो की मदद के लिए प्रेरित किया जाएगा।

From around the web