मानवाधिकारों के मुद्दे पर 'सिलेक्टिव अप्रोच' लोकतंत्र के लिए खतरा : प्रधानमंत्री मोदी

 
1
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मानवाधिकारों की चयनात्मक व्याख्या (सिलेक्टिव अप्रोच) और देश की छवि खराब करने के लिए मानवाधिकारों के इस्तेमाल के खिलाफ आगाह करते हुए कहा कि यह लोकतंत्र के लिए खतरनाक है। उन्होंने कहा कि मानवाधिकार के नाम पर कुछ लोग देश की छवि खराब करने की कोशिश करते हैं हमें इसके प्रति सचेत रहने की जरूरत है।
प्रधानमंत्री ने मंगलवार को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के 28वें स्थापना दिवस समारोह को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि हाल ही में कुछ लोगों ने अपने स्वार्थ के अनुसार मानवाधिकारों की अपने-अपने नजरिए से व्याख्या करना शुरू कर दिया है।
उन्होंने कहा कि एक ही प्रकार की किसी घटना में कुछ लोगों को मानवाधिकार का हनन दिखता है और वैसी ही किसी दूसरी घटना में उन्हीं लोगों को मानवाधिकार का हनन नहीं दिखता। इस प्रकार की प्रवृत्ति ने मानवाधिकारों को बहुत नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने यह भी कहा कि मानवाधिकारों का सबसे बड़ा उल्लंघन तब होता है जब उसे राजनीति और राजनीतिक लाभ-हानि के चश्मे से देखा जाता है। प्रधानमंत्री ने चेतावनी दी कि यह चयनात्मक व्यवहार लोकतंत्र के लिए भी उतना ही हानिकारक है।
उन्होंने कहा कि भारत का स्वतंत्रता आंदोलन और इसका इतिहास भारत के लिए मानवाधिकारों और मानवाधिकारों के मूल्यों के लिए प्रेरणा का एक बड़ा स्रोत रहा है। प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी को याद करते हुए कहा, “एक राष्ट्र के रूप में, एक समाज के रूप में हमने अन्याय-अत्याचार का विरोध किया, हमने सदियों से अपने अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी। ऐसे समय में जब पूरी दुनिया प्रथम विश्व युद्ध की हिंसा में घिरी हुई थी, भारत ने पूरी दुनिया को 'अधिकार और अहिंसा' का रास्ता सुझाया। न केवल भारत बल्कि पूरी दुनिया हमारे बापू को मानवाधिकारों और मानवीय मूल्यों के प्रतीक के रूप में देखती है।” उन्होंने कहा कि कई मौकों पर दुनिया का मोहभंग और भ्रम होने पर भी भारत मानवाधिकारों के प्रति अडिग और संवेदनशील बना रहा है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि मानवाधिकार की अवधारणा का गरीबों की गरिमा से गहरा संबंध है। उन्होंने कहा कि जब गरीब से गरीब व्यक्ति को सरकारी योजनाओं का समान हिस्सा नहीं मिलता है तो अधिकारों का सवाल उठता है। प्रधानमंत्री ने गरीबों की गरिमा सुनिश्चित करने के लिए सरकार के प्रयासों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि जब एक गरीब व्यक्ति को खुले में शौच से मुक्ति दिलाने के लिए शौचालय मिलता है, तो उसे सम्मान मिलता है। उसी तरह एक गरीब व्यक्ति जो बैंक में प्रवेश करने से हिचकिचाता है, उसे जन धन खाता मिलता है, उससे उसकी गरिमा सुनिश्चित होती है। इसी तरह, रुपे कार्ड, उज्ज्वला गैस कनेक्शन और महिलाओं के लिए पक्के मकानों के संपत्ति के अधिकार जैसे उपाय उस दिशा में प्रमुख कदम हैं।
पिछले कुछ वर्षों में किये गये कार्यों का ब्यौरा पेश करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ने विभिन्न वर्गों में विभिन्न स्तरों पर हो रहे अन्याय को दूर करने का भी प्रयास किया है। उन्होंने कहा, “दशकों से मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक के खिलाफ कानून की मांग कर रही थीं। हमने तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाकर, मुस्लिम महिलाओं को नया अधिकार दिया है।” प्रधानमंत्री ने कहा कि महिलाओं के लिए कई सेक्टर खोले गए हैं और यह सुनिश्चित किया गया है कि वे 24 घंटे सुरक्षा के साथ काम कर सकें। उन्होंने कहा कि भारत ने कामकाजी महिलाओं के लिए 26 सप्ताह का सवैतनिक मातृत्व अवकाश सुनिश्चित किया है, यह एक ऐसा कारनामा है जिसे कई विकसित देश भी हासिल नहीं कर सके। इसी तरह, प्रधानमंत्री ने ट्रांस-जेंडर, बच्चों और खानाबदोश और अर्ध-घुमंतू समुदायों के लिए सरकार द्वारा किये गये उपायों का जिक्र किया।
हाल के पैरालंपिक में पैरा-एथलीटों के प्रदर्शन को याद करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हाल के वर्षों में दिव्यांग जन के लिए भी कानून बनाए गए हैं। उन्हें नई सुविधाओं से जोड़ा गया है। दिव्यांग हितैषी भवन बन रहे हैं और दिव्यांगों के लिए भाषा का मानकीकरण किया जा रहा है।
मोदी ने कहा कि महामारी के दौरान गरीब, असहाय और वरिष्ठ नागरिकों को उनके खाते में सीधे वित्तीय सहायता दी गई। वन नेशन-वन राशन कार्ड के लागू होने से प्रवासी मजदूरों को काफी मदद हुई।
प्रधानमंत्री ने कहा कि यह समझना महत्वपूर्ण है कि मानवाधिकार केवल अधिकारों से नहीं जुड़ा है बल्कि यह हमारे कर्तव्यों का भी विषय है। यह कहते हुए कि "अधिकार और कर्तव्य दो ट्रैक हैं जिन पर मानव विकास और मानव गरिमा की यात्रा होती है उन्होंने जोर देकर कहा कि कर्तव्य भी अधिकारों के समान ही महत्वपूर्ण हैं और उन पर अलग से चर्चा नहीं की जानी चाहिए क्योंकि वे एक दूसरे के पूरक हैं।
प्रधानमंत्री ने भावी पीढ़ियों के मानवाधिकारों का उल्लेख करते हुए समापन किया। उन्होंने जोर देकर कहा कि अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन, नवीकरणीय ऊर्जा लक्ष्यों और हाइड्रोजन मिशन जैसे उपायों के साथ, भारत सतत जीवन और पर्यावरण के अनुकूल विकास की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

From around the web