कोरोना के खिलाफ टीकाकरण एक शक्तिशाली हथियार: डॉ. मंडाविया

 
म
नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ मनसुख मंडाविया ने कहा कि देश में कोरोना के खिलाफ जंग में कारगर टीकाकरण अंतिम चरण में हैं। इसलिए टीकाकरण की गति बढ़ाने के अभियान को और तेज करना चाहिए।

सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री ने मणिपुर, मेघालय, नगालैंड और पुद्दुचेरी के स्वास्थ्य सचिवों और स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान कहा कि इस काम में गैरसरकारी संस्थान और हितधारकों को सहयोेग के लिए आगे आना चाहिए।
डॉ. मनसुख मंडाविया ने राज्यों से आग्रह किया कि वे सभी राज्य सरकार के अधिकारियों को हर हफ्ते एक दिन तैनात करें, ताकि वे प्रत्येक घर में जाकर उन्हें पूर्ण टीकाकरण के लिए प्रेरित कर सकें। उन्होंने 'हर घर दस्तक' अभियान को मजबूत करने के लिए प्रधानमंत्री की मोप-अप रणनीतियों को दोहराया।

उन्होंने कहा कि गांवों में अग्रिम रूप से 'प्रचार टोली' तैनात की जानी चाहिए, जो जागरूकता अभियानों के साथ-साथ पात्र आबादी को परामर्श देना सुनिश्चित करेगी। 'टीकाकरण टोली' सुनिश्चित करेगी कि सभी पात्र नागरिकों को पहली और दूसरी खुराक का टीकाकरण किया जाए।

हर घर दस्तक अभियान के तहत देश में अब तक 82 प्रतिशत लोगों को टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है। दूसरी खुराक का कवरेज 43 प्रतिशत है। पुद्दुचेरी में 66 फीसदी लोगों को पहली खुराक और 39 प्रतिशत को दूसरी खुराक दी गई है जबकि नगालैंड में पहली खुराक 49 प्रतिशत और दूसरी खुराक 36 प्रतिशत लोगों को दी जा चुकी है। मेघालय में अब तक 57 प्रतिशत वयस्क आबादी को टीके की पहली खुराक और 38 प्रतिशत को दूसरी खुराक दी जा चुकी है। मणिपुर में 54 प्रतिशत आबादी को पहली खुराक और 36 प्रतिशत लोगों को दूसरी खुराक दी गई है। चारों राज्य टीकाकरण में पहली और दूसरी खुराक कवरेज में राष्ट्रीय औसत से पीछे हैं।

From around the web