अक्टूबर 2024 तक तैयार हो जाएगा जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट, मार्च 2024 से शुरू हो जाएगी संचालन की टेस्टिंग: नन्दी

 
अक्टूबर 2024 तक तैयार हो जाएगा जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट : नन्दी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने बुधवार को बताया कि जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट अक्टूबर 2024 तक बन कर तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मार्च 2024 से एयरपोर्ट संचालन की टेस्टिंग भी शुरू हो जाएगी।

औद्योगिक विकास मंत्री नन्दी बुधवार को पिकअप भवन में यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण के विकास कार्यों, लॉजिस्टिक पार्क, वेयरहाउस निर्माण, भूमि आवंटन के साथ ही अन्य योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में आने वाले सभी इलाकों में समुचित विकास कराने के निर्देश दिए।

समीक्षा बैठक में नन्दी ने यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण की योजनाओं को सरल बनाते हुए इंडस्ट्रियल एरिया में ग्रुप हाउसिंग की भी व्यवस्था करने के निर्देश दिए। मंत्री नन्दी ने कहा कि जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट अक्टूबर 2024 तक बन कर तैयार हो जाएगा। मार्च 2024 से एयरपोर्ट संचालन की टेस्टिंग शुरू हो जाएगी।

तेजी के साथ चल रहा एयरपोर्ट जेवर का निर्माण कार्य

मंत्री ने बताया कि इंटरनेशनल एयरपोर्ट जेवर को विकसित करने का कार्य तेजी से चल रहा है। निर्माण कार्य के लिए सारे क्लीयरेंस मिल चुके हैं। रनवे और बिल्डिंग का निर्माण कार्य तेजी के साथ किया जा रहा है, जिसे अक्टूबर 2024 तक पूरा कर लिया जाएगा। वहीं मार्च 2024 तक टेस्टिंग का कार्य पूरा कर लिया जाएगा।

बैठक में अधिकारियों ने बताया कि मेडिकल डिवाइस पार्क के लिए एक हजार एकड़ भूमि अधिग्रहित करने की प्रक्रिया जारी है। मंत्री नन्दी ने अतिक्रमण ध्वस्तीकरण की कार्रवाई में धन उगाही की शिकायत आने पर कार्रवाई की चेतावनी दी।

सितम्बर तक तक तैयार हो जाएंगे तीन स्मार्ट गांव

बैठक में बताया गया कि यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण द्वारा 29 गांवों में से तीन गांव को स्मार्ट विलेज बनाया जा रहा है। जहां अब तक 90 प्रतिशत कार्य पूरे हो गए हैं, सितम्बर तक 100 प्रतिषत कार्य पूरे हो जाएंगे। बताया गया कि स्मार्ट विलेज में कचरा निस्तारण व्यवस्था, नाला, सीवर, पेयजल आपूर्ति, बिजली, सड़क, ओपन एरिया, शैक्षिक व्यवस्था, चिकित्सा व्यवस्था करने के साथ ही प्रत्येक गांव में सीएससी खोलने की तैयारी है।

केंद्र सरकार के 100 करोड़ में से यीडा ने सबसे पहले हासिल किए 30 करोड़

समीक्षा बैठक में यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण के सीईओ अरूण वीर ने बताया कि भारत सरकार ने विकास योजनाओं के उत्तर प्रदेश सरकार के लिए 100 करोड़ रूपए का बजट निर्धारित किया है। जिसमें से 30 करोड़ रूपए यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण भारत सरकार से हासिल कर चुका है।

मथुरा से सात किमी पहले बनाया जाएगा एक नया ग्रीनफील्ड शहर

बैठक में यह भी बताया गया कि राया नगरीय केंद्र वृंदावन की महायोजना में बांके बिहारी मंदिर के चारों तरफ ग्रीनफील्ड शहर बनाने की योजना थी, लेकिन अतिक्रमण के कारण अब मथुरा से सात किलोमीटर पहले एक नया ग्रीनफील्ड शहर बनाने के प्रस्ताव पर कार्य चल रहा है। जिसे डेढ़ वर्ष में पूरा किया जाएगा। मंत्री नन्दी ने मथुरा की समृद्ध विरासत को इस तरह से चित्रित करने के निर्देष दिए, जो विश्व पटल पर अद्वितीय हो, यह हमारा ड्रीम प्रोजेक्ट है।

अतिक्रमण ध्वस्तीकरण की कार्रवाई में भेदभाव न करने के निर्देश

मंत्री नन्दी ने अतिक्रमण की कार्रवाई के सम्बंध में जानकारी मांगी तो अधिकारियों ने बताया कि 414 वादों में 1249 लोगों को नोटिस जारी की गई है। 209 वादों में ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की गई है। 77 लोगों पर एफआईआर हुई है। मंत्री नन्दी ने अधिकारियों से पूछा कि 13 लाख 18 हजार 560 वर्ग मीटर एरिया को अभी तक क्यों नहीं खाली कराया गया है। उन्होंने कहा कि अतिक्रमण ध्वस्तीकरण की कार्रवाई में भेदभाव न हो, इसका विशेष ध्यान दिया जाए। धन उगाही की शिकायत आई तो सम्बंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बैठक में अपर मुख्य सचिव औद्योगिक विकास अरविंद कुमार, विशेष सचिव बीएन सिंह, सीईओ यीडा अरूणवीर सिंह, एडिशनल सीईओ मोनिका रानी आदि अधिकारीगण मौजूद रहे।

From around the web