‘यूपी मैराथन’ में लगेगी सात लाख की इनामी राशि दांव पर

 
सा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की प्रतिभाओं को आगे लाने तथा लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता जागृत पैदा करने के मकसद से 28 अगस्त को यहां आयोजित ‘यूपी मैराथन’ में देश के कई महिला एवं पुरुष एथलीट हिस्सा लेेंगे।मैराथन में कुल सात लाख रुपये की इनामी राशि रखी गई है।

सुविधा फाउण्डेशन ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित यह हाफ मैराथन यानी 21 किलोमीटर होगी। यह महिलाओं और पुरुषों के लिए है। इसके अलावा महिलाओं की पांच किलोमीटर और पुरुषों की दस किलोमीटर की क्रासकंट्री दौड़ भी होगी। खेलों और स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता पैदा करने के लिए तीन किमी की ‘सेलेब्रेटी दौड़’ भी आयोजित की जाएगी।

एथलीट डब्लूडब्लूडब्लू.यूपीमैराथनसुविधा.काम वेबलाइट पर जाकर पंजीकरण करा सकते हैं। 25 अगस्त तक पंजीकरण कराया जा सकता है। दौड़ 28 अगस्त की सुबह 5.30 बजे 1090 चौराहा से शुरू होगी। हाफ मैराथन 1090 से शुरू होकर समतामूलक चौराहा, ताज होटल, भागीदारी भवन, जनेश्वर मिश्र पार्क, गोमती बंधा रोड होते हुए शहीद पथ तक जाएगी। वापस इसी मार्ग से होते हुए 1090 चौराहा पर समाप्त होगी। मैराथन के लिए टेक्निकल कमेटी का गठन किया गया है। इसके अध्यक्ष जाने माने कोच द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता जेएस भाटिया हैं।

आयोजन सचिव समीर शर्मा ने शनिवार को बताया कि मैराथन में महिलाओं और पुरुषों के विजेताओं को पहले पुरस्कार के रूप में एक-एक लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। दूसरे स्थान पर रहने वाले एथलीटों को 75-75 हजार और तीसरे स्थान पर रहने वालों को 50-50 हजार रुपये के पुरस्कार दिए जाएंगे। साथ ही चौथे और पांचवें स्थान पर रहने वाले एथलीटों को 10-10 हजार और छठे से दसवें स्थान पर रहने वालों को पांच-पांच हजार रुपये का नगद पुरस्कार दिया जाएगा।

आयोजन समिति के अध्यक्ष मृणाल सिन्हा ने बताया कि महिला एवं पुरुषों की क्रासकंट्री दौड़ में विजेताओं को 30-30 हजार रुपये, दूसरे स्थान पर रहने वालों को 20-20 हजार और तीसरे स्थान पर 10-10 हजार रुपये के नगद पुरस्कार दिए जाएंगे। चौथे और पांचवें स्थान पर रहने वाले एथलीटों को पांच-पांच हजार और छठे से दसवें स्थान पर रहने वाले एथलीटों को दो-दो हजार रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। सेलेब्रेटी दौड़ में लॉटरी सिस्टम से 50 प्रतिभागियों को आकर्षक पुरस्कार दिए जाएंगे।

मैराथन और क्रासकंट्री दौड़ में फोटो फिनिश कैमरों का इस्तेमाल किया जाएगा। साथ ही टाइमिंग के लिए ‘कंप्यूटर चिप’ भी इस्तेमाल की जाएगी। कंप्यूटर चिप मैराथन और क्रासकंट्री दौड़ में प्रदान की जाएगी। यह सिर्फ पांच सौ धावकों को ही दी जाएगी। इसके अलावा अत्याधुनिक स्टॉप वाच से मैनुअल टाइमिंग ली जाएगी।

दौड़ की मुख्य संयोजक डा.सुधा बाजपेयी ने बताया कि इस दौड़ को उत्तर प्रदेश एथलेटिक्स एसोसिएशन और जिला एथलेटिक्स एसोसिएशन लखनऊ ने मान्यता प्रदान कर दी है। उत्तर प्रदेश एथलेटिक्स एसोसिएशन ने मैराथन के लिए डा. रंजन भाटिया को टेक्निकल डेलीगेट, नरेंद्र कुमार को संयोजक और बी.आर. वरुण को स्थानीय संयोजक नियुक्त किया है। दौड़ को कराने में एथलेटिक्स के क्वालीफाइड ऑफीशियल्स मदद करेंगे। ये क्वालीफाइड टेक्निकल ऑफीशियल जिला एथलेटिक्स संघ लखनऊ उपलब्ध करा रहा है।

From around the web