नाहिद हसन की जेल में खातिरदारी के लिए गुर्गे भेजने वाला थानाध्यक्ष लाइन हाजिर

मुजफ्फरनगर और शामली के गुर्गों को फर्जी मामले में भेजा था जेल, एक को गौकशी, दूसरे को तमंचे में भेजा था जेल 
 
न
चित्रकूट। जिला कारागार में बंद कैराना के सपा विधायक नाहिद हसन की खातिरदारी के लिए बहिलपुरवा थाने की पुलिस ने मुजफ्फरनगर के रहने वाले मोहम्मद शेरू और शामली जिले के रहने वाले मोहम्मद वासिल को गोकशी और अवैध तमंचा रखने के फर्जी मामले में जेल भेजा था। दोनों गुर्गों की संदिग्ध गतिविधियों को देख आशंकित जेल प्रशासन की शिकायत पर जिला प्रशासन ने प्रकरण की जांच की। जिसके बाद पुलिस अधीक्षक अतुल शर्मा ने मामले का संज्ञान लेते हुए दोनों आरोपितोंं को चित्रकूट जिला कारागार से एक को कौशांबी और दूसरे को नैनी सेंट्रल जेल भेज दिया है।

बुंदेलखंड की सबसे हाईटेक चित्रकूट जिला कारागार रगौली में बंद कैराना से सपा विधायक नाहिद हसन पर जिले के बहिलपुरवा थानाध्यक्ष की दरियादिली सामने आयी है। जेल में बंद सपा विधायक नाहिद हसन की खातिरदारी के लिए पुलिस ने उनके दो गुर्गों को बीते अक्टूबर माह में गौकशी और अवैध तमंचा रखने के फर्जी आरोप में जेल भेज दिया। आशंका होने पर जेल प्रशासन ने दोनों गुर्गों को दूसरे जेल में शिफ्ट कर दिया। इस मामले में पुलिस अधीक्षक ने सांठगांठ करने वाले आरोपित थानाध्यक्ष को लाइन हाजिर कर दिया है।

ज्ञात हो कि बीते 14 मई 2021 को हुए शातिर अपराधी मुकीम काला, अंशुल दीक्षित और मेराजुद्दीन ट्रिपल हत्याकांड की घटना से चित्रकूट का जिला कारागार रगौली पूरे प्रदेश की सुर्खियों में था। जिसके बाद इस जेल की सुरक्षा व्यवस्था  चौकस कर दी गई थी।  पूर्वांचल के माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी और सपा से कैराना विधायक नाहिद हसन को योगी सरकार ने चित्रकूट की  इसी हाईटेक जेल में रखा हुआ है।

गुर्गों को जेल भिजवाने वाला थानाध्यक्ष लाइन हाजिर

कैराना से सपा विधायक नाहिद हसन की सेवा के लिए मुजफ्फरनगर के रहने वाले मोहम्मद शेरू और शामली जिले के रहने वाले मोहम्मद वासिल को गोकशी और अवैध तमंचा रखने के फर्जी मामले में जेल भेजने के आरोपित बहिलपुरवा थानाध्यक्ष इंद्रजीत को पुलिस अधीक्षक अतुल शर्मा ने लाइन हाजिर कर दिया गया है और उनके खिलाफ विभागीय जांच भी शुरू कर दी गई है।

थानाध्यक्ष के खिलाफ होगी विभागीय कार्रवाई

इस मामले में पुलिस अधीक्षक अतुल शर्मा का कहना है कि मामले का संज्ञान लेकर थानाध्यक्ष इंद्रजीत के खिलाफ लाइन हाजिर की कार्रवाई की गई है और जांच करा कर विभागीय दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ जेल प्रशासन को मिलने आने वाले लोगों की कड़ी चेकिंग के बाद ही मिलवाने के निर्देश दिए गए।

From around the web