उप्र विप उपचुनाव: भाजपा के दोनों उम्मीदवार निर्विरोध निर्वाचित
 

 
लखनऊ, 04 अगस्त (हि.स.)। उत्तर प्रदेश विधान परिषद की दो खाली सीटों के लिए हुए उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दोनों उम्मीदवार धर्मेंद्र सिंह सैंथवार और निर्मला पासवान निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं।    गुरुवार को नाम वापसी का अंतिम दिन था। नामांकन वापसी की समय सीमा बीतने के बाद भाजपा के दोनों उम्मीदवारों को निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया गया। इस उपचुनाव में प्रदेश की प्रमुख विपक्षी समाजवादी पार्टी (सपा) ने भी कीर्ति कोल को अपना उम्मीदवार बनाया था, लेकिन उनका नामांकन पत्र मंगलवार को पर्चे की जांच के दौरान आयु कम होने के कारण खारिज कर दिया गया था।    गौरतलब है कि भाजपा के ठाकुर जयवीर सिंह के इस्तीफे और सपा के अहमद हसन के निधन के कारण विधान परिषद की ये दोनों सीटें रिक्त थीं।    इस उपचुनाव के बाद उत्तर प्रदेश विधान परिषद में अब भाजपा के 75 सदस्य हो गए हैं। वहीं सपा के नौ जबकि बसपा, निषाद पार्टी, अपना दल (सोनेलाल) और जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के एक-एक सदस्य हैं। उप्र विधान परिषद में कुल 100 सदस्यों की सीमा है। वर्तमान में छह सीटें रिक्त हैं।
लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान परिषद की दो खाली सीटों के लिए हुए उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दोनों उम्मीदवार धर्मेंद्र सिंह सैंथवार और निर्मला पासवान निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं।

गुरुवार को नाम वापसी का अंतिम दिन था। नामांकन वापसी की समय सीमा बीतने के बाद भाजपा के दोनों उम्मीदवारों को निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया गया। इस उपचुनाव में प्रदेश की प्रमुख विपक्षी समाजवादी पार्टी (सपा) ने भी कीर्ति कोल को अपना उम्मीदवार बनाया था, लेकिन उनका नामांकन पत्र मंगलवार को पर्चे की जांच के दौरान आयु कम होने के कारण खारिज कर दिया गया था।

गौरतलब है कि भाजपा के ठाकुर जयवीर सिंह के इस्तीफे और सपा के अहमद हसन के निधन के कारण विधान परिषद की ये दोनों सीटें रिक्त थीं।

इस उपचुनाव के बाद उत्तर प्रदेश विधान परिषद में अब भाजपा के 75 सदस्य हो गए हैं। वहीं सपा के नौ जबकि बसपा, निषाद पार्टी, अपना दल (सोनेलाल) और जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के एक-एक सदस्य हैं। उप्र विधान परिषद में कुल 100 सदस्यों की सीमा है। वर्तमान में छह सीटें रिक्त हैं।

From around the web