सपा नेता धर्मेंद्र यादव की तलाश जारी, चम्बल में छुपे होने का अंदेशा, सीओ और कोतवाल समेत कई पर गिरी गाज 

 
न

इटावा ,- उत्तर प्रदेश की इटावा जेल से रिहा होने के बाद हूटर रैली निकालने वाला गैंगस्टर एवं सपा नेता धर्मेद्र यादव की सरगर्मी से तलाश कर रही पुलिस को अंदेशा है कि वह कहीं चंबल के वीरान बीहड़ों में छिपा हो सकता है।

फरार गैंगस्टर की गिरफ्तारी पर पुलिस ने 25000 का इनाम घोषित किया हुआ है। पुलिस ने हालांकि उसके उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश स्थित चंबल के बीहड़ों में शरण लेने की संभावना से इंकार नहीं किया है लेकिन इस बात की पुष्टि किसी अधिकारी के स्तर पर नहीं की जा रही है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा.बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि फरार गैंगस्टर की तलाश में आठ पुलिस टीमें विभिन्न संभावित स्थानों पर सक्रिय बनी हुई है। इन टीमों को अभी तक धर्मेंद्र यादव के बारे में कोई सही और सटीक जानकारी नहीं मिल सकी है। पुलिस की परेशानी इसलिए बढ़ती चली जा रही है क्योंकि दो दिन से इस बात की सूचनाये सामने आ रही है कि धर्मेंद्र यादव अदालत में समर्पण करने के लिए जा रहा है लेकिन इसके बावजूद भी वह समर्पण करने के लिए नहीं आया।

इटावा जिला जेल से हूटर रैली निकालने को लेकर  इटावा के पुलिस उपाधीक्षक राजीव प्रताप सिंह को कार्य पर्यर्वेक्षण के लिए लापरवाह मानते हुए तत्काल प्रभाव से पद मुक्त कर दिया गया है जबकि सिविल लाइन थाना प्रभारी और एलआईयू इंस्पेक्टर समेत सात पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

गौरतलब है कि चार जून को इलाहाबाद उच्च न्यायालय आए जमानत मिलने के बाद रिहा हुए धर्मेंद्र यादव ने 5 जून को इटावा जेल के बाहर से अपने समर्थकों के साथ जश्न के साथ में एक हूटर रैली निकाली । इसके वीडियो वायरल होने के बाद  हड़कंप ही हड़कंप मचा हुआ है। धर्मेंद्र औरैया जिले में समाजवादी युवजन सभा अध्यक्ष है लेकिन पंचायत चुनाव में भाग्यनगर से जिला पंचायत सदस्य के तौर पर चुनाव मैदान में उतारा गया जहां करीब 13000 वोटों से उनकी जीत हो गई लेकिन इससे पहले धर्मेंद्र यादव अपराधिक मामले में गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया था। धर्मेंद्र यादव के खिलाफ औरैया के जिला प्रशासन ने जिला बदर की भी कार्रवाई करके रखी हुई है । इसके साथ ही धर्मेंद्र यादव के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट की भी कार्रवाई हुई है।

From around the web