लखीमपुर हिंसा में अंकित दास का ड्राइवर शेखर भारती गिरफ्तार, किया खुलासा- थार में ही मौजूद था आशीष !

 
न

लखीमपुर खीरी - उत्तर प्रदेश में लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में चार किसानो समेत आठ लोगों के मारे जाने की घटना में वांछित एक अन्य आरोपी को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि किसान हत्याकांड के एक अन्य वांछित आरोपी शेखर भारती को खीरी पुलिस की अपराध शाखा ने लखनऊ के एपी सेन रोड से गिरफ्तार किया है।
उन्होने बताया कि शेखर भारती को आज सीजेएम न्यायालय मे पेश करके 14 दिन की पुलिस रिमांड मांगी है। कोर्ट ने आरोपी को न्यायिक हिरासत में  लेते हुये सुनवाई के लिये बुधवार का दिन नियत किया है। सूत्रो ने बताया कि शेखर भारती लखीमपुर कांड के मुख्य आरोपी आशीष मिश्र के दाेस्त अंकित दास की कार का चालक है। फिलहाल पुलिस शेखर से पूछताछ में जुटी है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वारदात के वक्त शेखर भारती काली रंग की फार्च्यूनर चला रहा था। घटना वाले दिन भी पुलिस ने आरोपी अंकित दास के ड्राइवर शेखर को पकड़ा था। जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हुआ था। 
इससे पहले पुलिस की टीम अंकित दास को ढूंढने के लिए लखनऊ के पुराना किला मोहल्ले में स्थित उसके घर पर पहुंची थी। लेकिन अंकित यहां पर मौजूद नहीं मिला । फिलहाल अंकित दास की तलाश में छापेमारी की जा रही है। पुलिस उसकी तलाश में जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि हिंसा में प्रयोग हुई गाड़ी का मालिक अंकित दास है। इस बीच शुक्रवार रात लखनऊ पुलिस ने छापा मारकर आशीष के दोस्त अंकित दास के घर से एसयूवी बरामद की जो घटना के दिन वहां मौजूद थी।
इस मामले में पुलिस ने आशीष के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 120बी, 304ए 147, 148, 149, 279 और 338 के तहत मामला दर्ज किया है। गौरतलब है कि अंकित दास पूर्व कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अखिलेश दास के भतीजे हैं। अखिलेश दास 18 साल तक राज्यसभा के सांसद रहे थे। मनमोहन सरकार में  अखिलेश दास इस्पात मंत्री बनाए गए थे। अप्रैल 2017 में हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई थी। लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को हिंसा हुई थी। इसमें 4 किसानों समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। इस हिंसा में मुख्य आरोपी केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। जो इस वक्त तीन दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। बताया जाता है कि शेखर ने पुलिस के सामने स्वीकार किया है कि घटना के समय आशीष मिश्रा उसी थार गाडी में सवार था जिससे किसानों को कुचला गया था। 

From around the web