पूर्व मंत्री सपा नेता के बिगड़े बोल, खुले मंच से किया प्रभु राम को हवा में उड़ाने का दावा

 
े

महोबा। पूर्व मंत्री व वरिष्ठ समाजवादी नेता सिद्धगोपाल साहू ने विधानसभा चुनावों के पहले पार्टी की गुरुवार को एक जनसभा में शीर्ष नेतृत्व का पूर्ववर्ती विवादास्पद नारा दोहराकर जिले का राजनीतिक पारा गरमा दिया है। भगवान राम को लेकर पूर्व मंत्री के बिगड़े बोल से भाजपा व हिन्दूवादी संगठनों में उबाल आ गया है। सपा नेता के बिगड़े बोल से जिले में ध्रुवीकरण की राजनीति के जोर पकड़ने के आसार बढ़ गए हैं। पूर्व मंत्री ने 29 साल पुराना मंच पर प्रदेश नेताओं की मौजूदगी में विवादास्पद नारा दोहराया है।

गौरतलब है कि अयोध्या के राम मंदिर आंदोलन के समय चुनावों के दौरान "मिले मुलायम कांशीराम, हवा में उड़ गए जय श्रीराम' का नारा सुर्खियां बना था। हालांकि उक्त नारा गढ़े हुए लगभग तीन दशक बीतने को हैं। नई पीढ़ी उक्त नारे को जानती भी नहीं है। लेकिन महोबा के वरिष्ठ सपा नेता व पूर्व मंत्री सिद्धगोपाल साहू ने पार्टी की जनसंवाद सभा में बुधवार को एक बार फिर उसी नारे को दोहरा दिया। सपा नेता के भाषण का उक्त अंश सोशल मीडिया पर वायरल होते ही रामभक्त, भाजपा नेता व हिंदूवादी नेता भड़क गए हैं।

सिद्धगोपाल साहू हैं सपा से महोबा विधानसभा सीट के लिए टिकट के प्रबल दावेदार।

सपा सरकार में खनन राज्य मंत्री रहे सिद्धगोपाल साहू महोबा से विधायक चुने गए थे। सिद्धगोपाल साहू के पिता छंगा साहू ने बसपा से राजनीति शुरु की थी। साहू परिवार महोबा जिले का व्यवसायी व उद्योगपति परिवार है। पूरा परिवार राजनीति में भी सक्रिय है। सिद्धगोपाल साहू इस बार फिर से टिकट के प्रबल दावेदार हैं। लेकिन चुनावों के ऐन पूर्व सपा नेता के उक्त विवादास्पद नारे के दोहराव से जिले की राजनीति में भूचाल आ गया है।

भाजपा व हिन्दूवादी संगठन बौखलाए सपा के वरिष्ठ नेता के बयान से भाजपा, रामभक्त व हिन्दूवादी संगठनों से जुड़े लोग आक्रोशित हो गए हैं। उन्होंने कहा हैकि भगवान राम का अपमान करने वाले सिद्धगोपाल साहू को चुनावों में जनता हवा में उड़ा देगी।

From around the web