बिजनौर में संघ कार्यकर्ता पर कार्रवाई ना होने से आहत इंस्पेक्टर अरुण राणा ने दिया इस्तीफा !

 
1

बिजनौर। बिजनौर में तैनात सब इंस्पेक्टर अरुण राणा ने आरएसएस कार्यकर्ता पर कार्रवाई ना होने से आहत होकर इस्तीफा दे दिया है। दरअसल दरोगा का पहले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ता से विवाद हुआ। इसमें दरोगा सस्पेंड हो गए। उसके बाद उनपर जानलेवा हमला हुआ। हमले के आरोपी पकड़े नहीं गए। जिससे आहत दरोगा ने इस्तीफा दे दिया। हालांकि इस्तीफे के तुरंत बाद पुलिस ने तेजी दिखाते हुए आरएसएस कार्यकर्ता समेत दो आरोपियों को पकड़ लिया। वहीं इस्तीफा नामंजूर करते हुए दरोगा को बहाल भी कर दिया।

सब इंस्पेक्टर अरुण राणा ने बताया कि वह बार-बार सीओ और इंस्पेक्टर से आरोपियों की गिरफ्तारी के बारे में पूछते है तो यही जवाब मिलता कि एसपी का इस बारे में कोई आदेश नहीं है। अरुण राणा के अनुसार, RSS के कुछ लोग और विभाग के अधिकारी उन पर लगातार समझौते का दबाव बना रहे थे। इससे त्रस्त होकर अरुण राणा ने सोमवार देर रात अपना इस्तीफा दे दिया। इस्तीफे की कॉपी उन्होंने बिजनौर एसपी, आईजी मुरादाबाद, एडीजी बरेली जोन और डीजीपी को भेजी है।

इस्तीफा नामंजूर, दो आरोपी गिरफ्तार 
बिजनौर एसपी डॉ. धर्मवीर सिंह ने बताया कि दरोगा का इस्तीफा नामंजूर करते हुए उन्हें तत्काल प्रभाव से बहाल कर दिया है। समझौते के लिए दबाव बनाने जैसी कोई बात नहीं है। बल्कि पुलिस टीमें आरोपियों को तलाशने में जुटी हैं। दो आरोपी उमंग व भोलू गिरफ्तार कर लिए गए हैं। बाकी आरोपी भी जल्द पकड़े जाएंगे।

From around the web