उप्र पंचायत चुनाव की मतगणना दूसरे दिन भी जारी, अब तक 38,317  प्रधान निर्वाचित, बीजेपी से लड़ी मुलायम की भतीजी हारी 

 
न

लखनऊ, ।   उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना रविवार को सुबह शुरू होने के बाद से अभी भी जारी है। सोमवार देर शाम तक 38,317 ग्राम प्रधान, 2,32,612 ग्राम पंचायत सदस्य, 55,926 क्षेत्र पंचायत (बीडीसी) सदस्य और 181 जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित हुए हैं। उम्मीद है कि चुनाव के अंतिम परिणाम मंगलवार तक आएंगे। 

राज्य निर्वाचन आयोग के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश के सभी 75 जिलों में 826 मतगणना केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था और कोविड प्रोटोकाल के बीच वोटों की गिनती जारी है। कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की जानकारी नहीं मिली है। 

कुछ मतगणना कर्मियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने से वोटों के गिनती की रफ्तार सुस्त हो गई है। ऐसे में संभावना है कि मंगलवार को भी मतगणना का कार्य जारी रहेगा। 

जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में प्रदेश की सत्तारुढ़ भाजपा अभी तक बढ़त बनाए हुए है। भाजपा के अधिकृत करीब 170 उम्मीदवार अभी तक आगे चल रहे हैं। वहीं समाजवादी पार्टी के 135, बहुजन समाज पार्टी व कांग्रेस के 40-40 और निर्दलीय प्रत्याशी 87 सीटों पर आगे चल रहे हैं।

अब तक जो नतीजे आए हैं उसके अनुसार कई दिग्गज लोगों को इस चुनाव में झटका लगा है। प्रदेश के पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय के छोटे भाई विनोद उपाध्याय और उनकी पत्नी सरोज उपाध्याय दोनों ही जिला पंचायत का चुनाव हार गए हैं। हालांकि रामवीर की पत्नी सीमा उपाध्याय ने जीत हासिल कर ली है। 

 उधर मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के विधायक राजकुमार यादव की पत्नी वंदना यादव जिला पंचायत सदस्य पद के लिए चुनाव हार गई हैं। उन्हें समाजवादी पार्टी के बागी उम्मीदवार ने पराजित किया है। 

मैनपुरी में भाजपा को भी झटका लगा है। भाजपा ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की भतीजी संध्या यादव को जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ाया था, लेकिन वह हार गई हैं। 

 उधर, चित्रकूट में राधे डकैत उर्फ सूबेदार सिंह का बेटा अरिमर्दन सिंह ने शीतलपुर तरौंहा ग्राम पंचायत में प्रधान पद का चुनाव जीत लिया है। 

गौरतलब है कि प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए चार चरणों में 15, 19, 26 और 29 अप्रैल को मतदान हुआ था। प्रथम चरण में 18 जिलों में वोट डाले गये थे और वोट का प्रतिशत 71 था। वहीं दूसरे चरण में 20 जिलों के 72 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। तीसरे चरण के लिए प्रदेश के 20 जिलों में कुल 73.5 प्रतिशत और चतुर्थ व अंतिम चरण में 17 जिलों में 75.38 फीसदी मतदान हुआ था। इस चुनाव में जिला पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य व ग्राम पंचायत सदस्य पदों के लिए वोट पड़े थे। चुनाव में कुल 12,89,830 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होना है। 

From around the web