खिलाड़ियों का हौसला और टीम भावना कोरोना काल में प्रेरणादायक, खिलाडी मदद करें  : योगी

 
न

लखनऊ - उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब पूरा देश कोरोना महामारी से लड़ रही है, ऐसे में खिलाड़ियों की सकारात्मक ऊर्जा, उनका हौसला और उनकी टीम भावना सभी के लिए प्रेरणास्पद है।
श्री योगी ने सोमवार शाम खिलाड़ियों से बातचीत में कहा कि खेल और खिलाड़ियों के संवर्धन और प्रोत्साहन के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार नीतिगत प्रयास कर रही है। प्रधानमंत्री ने ‘खेलो इंडिया खेलो’ अभियान शुरू किया तो नई शिक्षा नीति में खेलों को भी विशेष स्थान दिया गया है। वहीं राज्य सरकार खेलों के विकास के लिए हर गांव में खेल मैदान और ओपन जिम बनवा रही है।
उन्होने कहा कि उनकी सरकार ने ओलंपिक, कॉमनवेल्थ, विश्वकप, एशियन खेल सहित सभी प्रतिष्ठित प्रतियोगिताओं के न केवल विजेताओं और प्रतिभागियों के सम्मान करते हुए पांच लाख से 06 करोड़ तक की प्रोत्साहन राशि प्रदान करती है। उदयीमान खिलाड़ियों के प्रोत्साहन और विकास के लिए सतत प्रयास किये जा रहे हैं। लक्ष्मण पुरस्कार और लक्ष्मीबाई पुरस्कार दिए जा रहे हैं। राज्यबसरकार ने इसमें सभी खेल विधाओं को शामिल किया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना कोई सामान्य वायरस नहीं अपितु महामारी है। यह अपनी पिछली लहर से 30 से 50 गुना अधिक संक्रामक है। ऐसे में थोड़ी सी असावधानी चपेट में ला सकता है।
उन्होने कहा “ खिलाडी का जीवन बड़ा ही संयमित होता है। अनुशासित होता है। इस महामारी से बचाव के लिए उसी अनुशासन और संयम की जरूरत है। आपने अपने पुरुषार्थ से लाखों-करोड़ों लोगों के सामने आदर्श प्रस्तुत किया है, आपकी फैन फॉलोइंग है। इसलिये आज जबकि कुछ लोगों की नकारात्मक और भ्रामक प्रचार से आम आदमी सही जानकारी से वंचित हो जा रहा है, ऐसे में जरूरत है कि आप सभी लोगों को जागरूक करें। उन्हें बताएं कि मास्क लगाना अनिवार्य है, ग्लव्स पहनना जरूरी है। सैनीटाइजेशन आपको संक्रमित होने से बचाएगा। घर से अनावश्यक बाहर न निकलें। निकलें तो मास्क/ग्लव्स के सुरक्षा कवच के साथ निकलें।

मुख्यमंत्री ने खिलाड़ियों से आह्वान किया है कि वे अपनी अपील और संदेशों के माध्यम से कोरोना के विरुद्ध संघर्ष में समाज को जागरूक करने का कार्य करें। साथ ही, वे सभी को कोविड प्रोटोकाॅल और गाइडलाइंस का पालन सुनिश्चित किये जाने करने के लिए भी प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में हर सम्भव प्रयास कर रही है। यह समय नकारात्मक बातों का नहीं है। हम सभी कोरोना के विरुद्ध अभियान के साथ जुड़ते हुए चिकित्सक, स्वास्थ्य कर्मियों, पैरामेडिक्स, सफाई कर्मियों सहित सभी फ्रन्टलाइन वर्कर्स और कोरोना योद्धाओं के मनोबल को बढ़ाएं और समाज को सम्बल प्रदान करें।
 उन्होंने कहा कि कोरोना को सभी के सहयोग व समन्वय से टीम भावना के साथ कार्य करते हुए परास्त किया जा सकता है। हम सभी की जिम्मेदारी है कि सरकार, समाज, विभिन्न संगठनों के साथ जुड़कर कोरोना के विरुद्ध संघर्ष में अपना सक्रिय योगदान करें। उन्होंने कहा कि सूचना विभाग और खेल विभाग खिलाड़ियों के साथ समन्वय बनाते हुए उनके संदेशों को मीडिया में प्रचारित-प्रसारित करने का कार्य करे। इससे समाज में सकारात्मक ऊर्जा का प्रसार होगा।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि कोविड के विरुद्ध संघर्ष में सकारात्मकता और मानसिक सम्बल आवश्यक है। खिलाड़ी रोल माॅडल के रूप में प्रोत्साहन का कार्य कर सकते हैं। उनकी लोकप्रियता और कार्यों से युवा वर्ग विशेष रूप से प्रभावित होता है। खिलाड़ियों द्वारा कोविड प्रोटोकाॅल व गाइडलाइंस के सम्बन्ध में जागरूकता उत्पन्न किए जाने से लोग प्रेरित व लाभान्वित होंगे।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि कोरोना वायरस कोई सामान्य वायरस नहीं है। यह वैश्विक महामारी के रूप में उभर कर आया है। इसका संक्रमण इस बार 30 से 50 गुना अधिक है। जरा सी असावधानी होने पर व्यक्ति कोरोना की चपेट में आ जाता है। सावधानी और सतर्कता से ही इस पर नियन्त्रण पाया जा सकता है। इस बार संक्रमण अधिक होने के कारण ऑक्सीजन की आवश्यकता और मांग बढ़ी है। वेन्टीलेटर और एच0एफ0एन0सी0 पर निर्भरता में वृद्धि हुई है। राज्य सरकार आवश्यकतानुसार सभी संसाधनों को उपलब्ध करा रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि खिलाड़ियों ने देश व प्रदेश का सम्मान व गौरव बढ़ाया है। केन्द्र व राज्य सरकार खेलों व खिलाड़ियों के प्रोत्साहन का कार्य निरन्तर कर रही है। खेलो इण्डिया कार्यक्रम और नई खेल नीति के माध्यम से उन्हें प्रोत्साहन मिला है। राज्य सरकार खिलाड़ियों के प्रति संवेदनशील है। हर गांव में खेल के मैदान और प्रत्येक ग्राम पंचायत में ओपेन जिम की व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जा रही हैं।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि लक्ष्मण पुरस्कार व रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कारों द्वारा विभिन्न विधाओं के खिलाड़ियों को सम्मानित किया जा रहा है। इन पुरस्कारों की संख्या में वृद्धि की गई है। काॅमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स, ओलम्पिक्स सहित विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में टीम व खिलाड़ियों द्वारा स्वर्ण, रजत व कांस्य पदक पाए जाने तथा प्रतिभाग किए जाने पर प्रोत्साहन व सम्मान स्वरूप पुरस्कार राशि प्रदान की जाती है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की पहली लहर के दौरान प्रदेश में एक्टिव केसेस की संख्या 68 हजार थी, जिस पर नियन्त्रण पाते हुए यह संख्या घटकर माह मार्च, 2021 में मात्र 85 रह गयी थी। इसी लहर के दौरान प्रदेश में 24 अप्रैल को एक्टिव केसेस की संख्या 03 लाख 09 हजार तक पहुंच गयी, जो वर्तमान में 02 लाख 90 हजार है। इसी प्रकार पिछली कोरोना लहर में एक दिन में सर्वाधिक केसेस की संख्या 7,500 थी, जो दूसरी लहर के दौरान कुल 38 हजार से अधिक हो गयी थी, जो आज घटकर 29,192 हो गयी है। यह एक सुखद संकेत है कि नये मामलों में कमी आ रही है और रिकवरी दर में वृद्धि हो रही है।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि कोरोना का पहला केस जब प्रदेश में आया था, तब जांच, बेड्स आदि की सुविधा नहीं थी। एल-1 सुविधा के 01 लाख 16 हजार तथा एल-2 व एल-3 सुविधा के 70 हजार से अधिक बेड्स उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लिए सर्वाधिक संक्रमण से प्रभावित 07 जनपदों में निःशुल्क वैक्सीनेशन का कार्य प्रारम्भ किया जा चुका है, जिसे 01 सप्ताह में सभी जनपदों में लागू किया जाएगा।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि निगरानी समितियों के माध्यम से जागरूकता और कोविड संक्रमित व्यक्तियों को चिन्हित करने का कार्य किया जा रहा है। इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर द्वारा होम आइसोलेशन में रह रहे संक्रमित मरीजों के लिए मेडिकल किट उपलब्ध करायी जा रही है। उनके तथा अस्पताल में भर्ती मरीजों के साथ संवाद की व्यवस्था है, जिसकी माॅनीटरिंग सी0एम0 हेल्पलाइन द्वारा की जा रही है। उन्होंने कहा कि कोविड लक्षण पाए जाने पर जांच तुरन्त करायी जाए। मरीज को डाॅक्टर का परामर्श सुनिश्चित कराया जाए। पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से लोगों को कोविड से बचाव व कोविड प्रोटोकाॅल का पालन सुनिश्चित करने के लिए जागरूक किया जाए।
खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  उपेन्द्र तिवारी ने मुख्यमंत्री  द्वारा उत्तर प्रदेश को सर्वोत्तम प्रदेश बनाने के प्रयासों की सराहना की। उत्तर प्रदेश का नाम रोशन करने वाले सभी खिलाड़ियों का स्वागत करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ियों को मुख्यमंत्री  का मार्गदर्शन प्राप्त होता रहता है। मुख्यमंत्री ने विपरीत परिस्थितियों में भी जनता के हितों का ध्यान रखा है। विभिन्न वर्गों के साथ संवाद किया है।
वर्चुअल संवाद के दौरान  सुरेश रैना (क्रिकेटर) ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए प्रदेश सरकार सभी जरूरी कदम उठा रही है। मुख्यमंत्री  की सक्रियता लगातार बनी हुई है। इस लड़ाई को जीतने के लिए जरूरी है कि हम सभी एकजुट होकर प्रयास करें। बचाव सतर्कता सावधानी बहुत जरूरी है।
 विजय सिंह चौहान (एथेलेटिक्स) ने कहा कि कोविड महामारी से जुड़ी जानकारी को लेकर समाज मे कई तरह के भ्रमित करने वाली जानकारियां हैं। कुछ लोग नकारात्मकता फैला रहे हैं। हमें इनसे सावधान रहना होगा। मुख्यमंत्री  के नेतृत्व में राज्य सरकार लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सभी प्रबन्ध कर रही है, लेकिन हमारी जिम्मेदारी भी है। हमें सतर्क व सावधान रहना होगा।
 अशोक ध्यानचन्द (हॉकी) ने कहा कि कोविड से लड़ाई में संयमित जीवनशैली का बड़ा महत्व है। जो जितना फिट है, उसे उतना ही कम खतरा है। हम सभी को योग/प्राणायाम को दिनचर्या में शामिल करना होगा। मुख्यमंत्री  अपनी ओर से पूरे इंतजाम कर रहे हैं। हमें समाज में जागरूकता फैलानी चाहिए। उत्तर प्रदेश यह लड़ाई जरूर जीतेगा।
 आशीष कुमार (जिम्नास्टिक) ने सकारात्मकता बढ़ाए जाने और फिजिकल फिटनेस पर जोर देते हुए कहा कि खेल व योग से जुड़ना समय की आवश्यकता है। इनसे जुड़कर हम बेहतर मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य के माध्यम से कोविड के विरुद्ध संघर्ष में निश्चित रूप से कामयाब होंगे। उन्होंने इस दिशा में राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की।
सुश्री प्रीति दुबे (हॉकी) ने कहा कि आज समय एकजुट होने का है। कोविड पॉजिटिविटी को हम अपने मन की पॉजिटिविटी से हरा सकते हैं। फेक और भ्रमित करने वाली सूचनाओं से बचना होगा। इम्युनिटी बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए। सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयास सराहनीय है। मुख्यमंत्री  की कार्यशैली प्रेरित करती है।
अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0  नवनीत सहगल ने वेबिनार का संचालन किया। उन्होंने आश्वस्त किया कि कोरोना नियंत्रण के सम्बन्ध में खिलाड़ियों की अपील आमजन तक पहुंचायी जाएगी।
खेल निदेशक  आर0पी0 सिंह ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए मुख्यमंत्री  द्वारा खेल व खिलाड़ियों के प्रोत्साहन स्वरूप किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। उन्होंने बताया कि ‘एक जनपद, एक उत्पाद योजना’ की तर्ज पर ‘एक जनपद, एक खेल’ योजना को भारत सरकार से स्वीकृति मिल चुकी है। इस योजना को मुख्यमंत्री  के मार्गदर्शन में पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा।
इस अवसर पर बड़ी संख्या में विभिन्न विधाओं के खिलाड़ी तथा गोरखपुर से उ0प्र0 हाॅकी के वाइस प्रेसिडेण्ट  धीरज सिंह हरीश, अर्जुन अवाॅर्डी (हाॅकी) सुश्री प्रेम माया,  गुलाम सरवर (हाॅकी),  जिलुर्रहमान (हाॅकी) आदि वर्चुअल माध्यम से जुडे़ हुए थे।

From around the web