किसानों का जंतर—मंतर कूच,सुरक्षा बलों की 100 कंपनियां तैनात 

 
1
गाजियाबाद। नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर महीनों से डटे किसानों ने जंतर—मंतर के लिए कूच कर दिया। अपने इस प्रदर्शन के माध्यम से किसान आंदोलन को और धार देने की कोशिश में हैं। तय कार्यक्रम के तहत पूरे मानसून सत्र (22 जुलाई-9 अगस्त) में किसान जंतर-मंतर पर 'किसान संसद' करेंगे। संयुक्‍त किसान मोर्चा के नेतृत्‍व में किसानों का एक जत्‍था जंतर मंतर की ओर कूच कर चुका है। जहां पर किसान संसद लगेगी जिसमें भारतीय किसान यून‍ियन के नेता राकेश टिकैत भी शामिल होंगे। किसानों का यह प्रदर्शन 11 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक चलेगा। किसान के इस प्रदर्शन को देखते हुए दिल्‍ली पुलिस ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। दिल्ली के के बॉर्डर से लेकर जंतर-मंतर तक सुरक्षा बलों की करीब 100 अतिरिक्त कंपनियां तैनाती की गई हैं।
किसान प्रदर्शन लाइव अपडेट्स
जंतर मंतर पर सुरक्षा के पुख्ते इंतजाम किए है। पैरा-मिलिट्री फोर्स के साथ दिल्ली पुलिस के जवानों को तैनात किया गया है। कई लेयर बेरिकेडिंग की गई है. जंतर मंतर आने के सभी रास्तों को बंद कर दिया गया है। पूरा जंतर मंतर छावनी में तब्दील कर दिया गया है। इसके अलावा संसद के आस पास के सभी रास्तों पर जवानों की तैनाती की गई है।
किसानों के जंतर-मंतर पर प्रदर्शन से पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध शुरू कर दिया है। राहुल कुछ कांग्रेस सांसदों के साथ संसद परिसर में स्थित गांधी प्रतिमा के सामने कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।
किसान नेता राकेश टिकैत से जब पूछा गया ​कि गणतंत्र दिवस हिंसा जैसी परिस्थिति से निपटने के लिए उनकी क्या तैयारियां हैं, तो उन्होंने कहा कि संसद जंतर-मंतर से केवल 150 मीटर दूर है। हम वहीं किसान संसद का आयोजन करेंगे। हम गुंडे हैं क्या? हमें गुंडागर्दी से क्या मतलब?

From around the web