खुद को वित्त मंत्रालय की कर्मचारी बताकर ठगी करने वाले बंटी-बबली समेत तीन आरोपी गिरफ्तार

 
1

गाजियाबाद। गाजियाबाद पुलिस ने एक शातिर पत्नी और उसके पति समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपी महिला खुद को वित्त मंत्रालय की कर्मचारी बताकर ठगी की वारदात अंजाम दिया करती थी। लव मैरिज करने वाले इस शातिर पति-पत्नी की एक-एक करतूत जब आप सुनेंगे,तो हैरान रह जाएंगे।
दरअसल मामला गाजियाबाद में इंदिरापुरम का है जहां हुमा खान नामक महिला के साथ उसके पति धीरज तंवर और साथी अक्षय को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह शातिर महिला एक ऐसे फर्जी कॉल सेंटर के लिए काम करती है, जो सिर्फ और सिर्फ ठगी करता है। अब तक करोड़ों रुपए की ठगी इस महिला ने अपने पति और साथी के साथ मिलकर की थी। हुमा कुरैशी ने कुछ समय पहले गौतमबुद्ध नगर के रहने वाले धीरज के साथ प्रेम विवाह किया था। लेकिन तमन्ना लग्जरी जीवन जीने की थी। लिहाजा पति पत्नी लक्ष्मी नगर के फर्जी कॉल सेंटर का हिस्सा बन गए। शातिर पत्नी हुमा खान फोन पर अपनी मीठी बातों के जाल में लोगों को फंसा लेती थी। पुलिस के मुताबिक हुमा खान खुद को वित्त मंत्रालय की कर्मचारी बताकर लोगों से बातचीत करती थी। यही नहीं कई बार वह खुद को आईआरडीए का अफसर भी बताती थी। इसी वजह से लोग उसकी बातों में फंस जाते थे। पॉलिसी में कोई गड़बड़ी होने का हवाला देकर या फिर पॉलिसी मैच्योर होने की बात कहकर लोगों को ठगा जाता था। जैसे ही पीड़ित महिला के जाल में फंसकर मोटी रकम ट्रांसफर कर देता था,वैसे ही आरोपी अपना फोन नंबर चेंज कर लेते थे। पुलिस के मुताबिक हुमा खान ही वह महिला है जो लोगों के पास बुक और पॉलिसी मैच्योर से जुड़े दस्तावेज एकत्रित किया करती थी। इन दस्तावेजों के साथ, शिकार को फंसा कर केस फ़र्ज़ी कॉल सेंटर के हवाले कर दिया जाता था। हुमा खान और उसका पति ठगी की अमाउंट का 20 परसेंट बतौर कमीशन लेते थे। उसी ठगी की रकम से हाल ही में आरोपियों ने एक लग्जरी गाड़ी भी खरीदी थी जो बरामद कर ली गई है। पति पत्नी से मिले पासबुक से 3 करोड रुपए के लेन-देन की बात भी सामने आई है।
सीओ अभय मिश्रा के मुताबिक एक जागरूक पीड़ित ने पुलिस को 87 लाख रुपए की ठगी के बारे में जानकारी दी। इसी जांच में पुलिस इस शातिर कपल और उनके साथी तक पहुंच गई। पुलिस अब इस गैंग के बाकी सदस्यों की तलाश में जुटी हुई है।

From around the web