घर में छापते थे नकली नोट एक असली नोट के बदले देते थे तीन, 7 लोग दबोचे

 
क
गाजियाबाद। जिले में कैलाभट्ठा इलाके में पुलिस ने छापा मारकर नकली नोटो के सौदागरों को पकड़ा है। इनके पास से पुलिस ने 6 लाख 59 हजार के नकली नोट बरामद किए हैं। ये गिरोह पिछले एक साल से जिले में सक्रिय था और नकली नोटो को छापकर बाजार में खपा कर रहा था। पकड़े गए गिरोह के सदस्यों ने खुलासा किया है कि वे अब तक 17 लाख रुपये के नकली नोट बाजार में चला चुके हैं। पुलिस गिरोह के सदस्यों से पूछताछ कर रही है। यह भी जानकारी की जा रही है कि इन नकली नोट के सौदागरों के संबंध पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई या फिर पाकिस्तान से तो नहीं जुड़े है।  
स्थानीय खुफिया तंत्र और पुलिस हुई फेल :—
जिले में पिछले एक साल से नकली नोट बाजार में झोके जा रहे थे और इसकी जानकारी न तो स्थानीय खुफिया तंत्र को हो पाई और न ही पुलिस को। लेकिन एक मुखबिर की सजगता से पुलिस नकली नोटों के सौदागरों तक पहुंच गई। पुलिस ने गिरोह के एक सदस्य से पहले नकली नोट का सौदा किया। इसके बाद धीरे-धीरे गिरोह तक पहुंच गई। कैलाभटठा के चमन कॉलोनी रहने वाला आजाद नोट छापने वाले गिरोह का मास्टरमाइंड है। नोट छपाई का काम कैलाभट्ठा निवासी युनूस के घर पर चल रहा था। छपाई के बाद नोटों की फिनिशिंग का काम आजाद, सोनू गंजा और युनूस नामक युवक करते थे। इसके बाद ये अमन और आलम उर्फ आशीष को नकली नोट बाजार में चलाने के लिए उपलब्ध कराते थे। ये लोग बाजार में नकली नोट चलाते थे।
एक के बदले देते थे तीन नकली नोट :—
नकली नोट के सौदागरों ने बताया कि वे एक असली नोट के बदले तीन नकली नोट देते थे। नोटो की सप्लाइ करने वाले अमन और आलम 20 प्रतिशत का कमीशन लेते थे। पुलिस ने पकड़े गए गिरोह के पास से 2000 हजार रुपये के 132 नोट, 500 रुपये के 200 नोट, 200 रुपये के 540 नोट, 100 रुपये के 106 नोट के अलावा दो कलर प्रिंटर, तीन कागज कटर के अलावा काफी  संख्या में कागज और अन्य समान बरामद किया है।

From around the web