मॉडर्न पत्नी को इमाम पति के चेहरे की दाढ़ी नहीं आई पसंद तो थाने में लिखा दिया मुकदमा

 
ो
अलीगढ़। जिले के थाना अकराबाद इलाके में मस्जिद के इमाम ने मॉडर्न पत्नी के कहने पर चेहरे पर बढ़ी हुई दाढ़ी नहीं कटाई। जिसके बाद उसकी मॉडर्न पत्नी ने अपने पति के खिलाफ छर्रा थाने में तीन तलाक सहित कई मामलों में मुकदमा दर्ज करा दिया।
जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी के कार्यालय पर एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया। जहां थाना अकराबाद क्षेत्र के गांव की एक मस्जिद के पीड़ित इमाम ने अपनी मॉडर्न पत्नी के खिलाफ मदद की गुहार लगाई गई। इमाम का आरोप है कि उसकी पत्नी मॉडल ख्यालात की हैं। निकाह के बाद से ही उसकी पत्नी जबरन उसके चेहरे पर बढ़ी हुई दाढ़ी को कटाने पर तुली हुई है। जब उसने अपनी मॉडर्न पत्नी के कहने पर अपनी दाढ़ी नहीं कटाई तो उसने उसके खिलाफ छर्रा थाने में तीन तलाक सहित फर्जी मुकदमा दर्ज करा दिया। पीड़ित इमाम ने एसएसपी से अपनी मॉडर्न पत्नी के खिलाफ की मदद की गुहार लगाई है। जबकि उसकी मॉडर्न पत्नी और उसके परिवार के लोग इमाम सहित उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं।
जानकारी के अनुसार थाना अकराबाद क्षेत्र के अंतर्गत मस्जिद के एक पेश इमाम ने अपनी पत्नी पर आरोप लगाया है। कि शादी के बाद से ही उसकी पत्नी दाढ़ी कटाने की जिद कर रही है। इमाम ने दाढ़ी कटाने से मना कर दिया तो पत्नी ने पति व परिवार के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराया है। पीड़ित जलालुद्दीन पुत्र मुकद्दमखा निवासी कस्बा पिलखना का निकाह वीना पुत्री इमामुद्दीन ग्राम सत्तरापुर 1 साल पूर्व हुआ था। शादी के बाद से ही पत्नी को पति की दाढ़ी रखना अच्छा नहीं लगता था। निकाह के बाद से ही मॉडल ख्यालात कि उसकी पत्नी बार-बार दाढ़ी कटाने की जिद करती थी। मॉडल ख्यालात की पत्नी के सताए पीड़ित इमाम आलिम एक मस्जिद का पेश इमाम है। जबकि पत्नी को इमाम ने धार्मिक काम का वास्ता देकर समझाने का प्रयास किया। लेकिन धार्मिक काम का वास्ते के बाद भी मॉडर्न पत्नी नहीं मानी और षड्यंत्र के तहत थाना छर्रा में इमाम और उसके परिवार के खिलाफ तीन तलाक दहेज एक्ट और परिवार के लोगों पर छेड़छाड़ का संगीन धाराओं का झूठा मुकदमा दर्ज करा दिया है। पीड़ित  इमाम का पत्नी मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न कर रही है। और धार्मिक मौलिक अधिकारों का हनन हो रहा है। मॉडर्न पत्नी द्वारा थाने में तीन तलाक सहित कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज होने के बाद पीड़ित इमाम मदद की गुहार लगाने एसएसपी कार्यालय पहुंचा। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर एसएस पी से मुलाकात न होने की वजह से इमाम को मायूस होकर लौटना पड़ा।

From around the web