कानपुर में तैनात सिपाही ने पोस्ट की विवादित टिप्पणी, जांच शुरु

 
व

कानपुर। उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में राजनीति जोरो पर जारी है। ऐसे में अब नया मुद्दा खाकी ने दे दिया है और एक पुलिसकर्मी ने सोशल मीडिया में पोस्ट कर लिख दिया कि कमिश्नरेट पुलिस में सभी थानों व चौकी से हटा दिया गया है। मामले को लेकर पुलिस के आलाधिकारियों ने संज्ञान में ले लिया है और जांच कर आगे की कार्रवाई किये जाने की बात की गई।

दरअसल, कानपुर कमिश्नरेट पुलिस में आने वाले चकेरी थाने में तैनात पुलिसकर्मी अतुल यादव के एक सोशल मीडिया पोस्ट ने अपने विभाग पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं। अतुल यादव ने फेसबुक पर पोस्ट करते हुए लिखा है कि कानपुर कमिश्नरेट में 'यादवों को सभी थानों व चौकी के साथ से हटा दिया गया है। यादवों से इतनी नफरत क्यों? 'इस पोस्ट को लिखने के साथ ही एक तस्वीर भी पोस्ट की है यह तस्वीर कोई आम तस्वीर नहीं बल्कि इस तस्वीर में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रमुख और अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव के साथ आरक्षी अतुल और एक महिला दरोगा पिंकी यादव मौजूद है।

यह तस्वीर उस रथ की है जिसमें सवार होकर प्रसपा प्रमुख पूरे प्रदेश में यात्रा कर रहे थे। अभी तस्वीर के वायरल होने के बाद पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। अपर पुलिस आयुक्त आनन्द प्रकाश तिवारी से जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि एक फोटो के वायरल होने का मामला संज्ञान में आया है। साक्ष्यों के आधार पर जांच की जा रही है।

From around the web