आंचल खरबंदा खुदकुशी मामले में आया नया मोड़, आरोपी मसाला कारोबारी ने पुलिस को सौंपे पत्नी से उसकी पिटाई के वीडियो

 
न

कानपुर, । कानपुर के नजीराबाद थाना इलाका अंतर्गत अशोक नगर में रहने वाले नामचीन सब्जी मसाला कारोबारी सूर्यांश खरबंदा की पत्नी आंचल खरबंदा की मौत के मामले में दो दिन बाद  नया मोड़ सामने आया है। आरोपों से घिरे पति ने पुलिस को मृत पत्नी आंचल द्वारा उसे बेरहमी से पिटाई व सास से गाली-गलौज करने वाले वीडियो उपलब्ध कराए हैं। वीडियो के सामने आने के बाद पुलिस पूरे तथ्यों की पड़ताल कर जांच आगे बढ़ा रही है। जबकि आंचल के पिता का कहना है कि दामाद सूर्यांश और उसकी मां ने बेटी को इतना प्रताड़ित किया था कि उसकी मनोदशा खराब कर दी थी।

एसीपी नजीराबाद संतोष कुमार सिंह का कहना है कि दहेज हत्या के आरोपी सूर्यांश और उसकी मां निशा ने गिरफ्तारी के बाद कुछ सबूत पेश किए हैं। उनका कहना है कि वह 12 नवम्बर को आंचल की मारपीट और कलह से ऊबकर अपनी बहन के घर लखनऊ चले गए थे। इसके साथ ही कई ऐसे वीडियो भी सौंपे गए हैं। जिसमें आंचल अपने पति की पिटाई करती नजर आ रही हैं। वहीं अब ससुराल वालों ने भी आंचल पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। इन वीडियो को जांच में शामिल कर फॉरेंसिक लैब भेजा जाएगा। ताकि यह साफ हो सके कि वीडियो के साथ कोई छेड़छाड़ तो नहीं की गई

न

है। वहीं, सूर्यांश ने बताया कि आंचल ने लॉकर से पैसे निकालने की कोशिश की थी। इसमें असफल होने पर आग लगाने का प्रयास किया। इसके बाद मैंने अपना सारा सोना और पैसा निकाल लिया था। यह पैसा और जेवरात मेरा है।

मृतका के पिता ने लगाए हैं गंभीर आरोप

मृतक आंचल के पिता पवन ग्रोवर ने बताया कि बेटी आंचल को मां-बेटे घर में बंद कर मारपीट करते थे। साथ ही बेटी को इतना टॉर्चर कर दिया कि उसकी मनोदशा ही बिगड़ गई। उन्होंने बताया कि पति ने सुनियोजित तरीके से मोबाइल रखकर मारपीट करते हुए वीडियो बना लिया है, लेकिन दूसरा पक्ष सामने नहीं है। इससे पहले पति और सास ने उसकी जमकर पिटाई की थी।

यह था पूरा घटनाक्रम

कानपुर के नामचीन सब्जी मसाला कारोबारी की पत्नी आंचल का शव फंदे पर लटका मिला था। दोनों की शादी फरवरी 2019 में हुई थी। लड़की पक्ष ने कारोबारी और उसके परिवार पर हत्या का आरोप लगाया था। साथ ही 70 लाख रुपये दहेज की मांग पूरी न होने को आंचल की मौत का कारण बताया जा रहा है। आंचल के पिता का आरोप है कि बिजनेसमैन सूर्यांश चरित्रहीन था। साथ ही उनकी बेटी से भी गलत काम कराना चाहता था। पुलिस ने शनिवार रात सूर्यांश और उसकी मां को गिरफ्तार कर रविवार को जेल भेज दिया। इसी बीच रविवार को एक पत्र  आंचल के मायके वालों के हाथ लगा, जिसमें आंचल के हस्ताक्षर भी हैं। जिसमे लिखा है कि -सूर्यांश मुझे रिश्तेदारों के साथ मिलकर कुछ समय से टॉर्चर कर रहा है...। सास गालियां बकती हैं...। मुझे घर में कैद करके रखा है...। मुझे एक-एक पैसे के लिए मोहताज कर दिया है...। सब मिलकर मुझे व मेरे बेटे अयांश को रास्ते से हटाना चाहते हैं...। हम पर अगर एक खरोंच भी आती है तो इसके जिम्मेदार यही लोग होंगे...। परिजनों को यह पत्र आंचल के घर से लाए गए उसके बच्चे के बैग में कपड़ों के बीच दबा हुआ मिला। आंचल की मां ने डीसीपी साउथ रवीना त्यागी को कॉल कर पत्र पुलिस कमिश्नर के हाथों में ही सौंपने की मांग रखी है। आंचल खरबंदा ने अंग्रेजी में लिखे पत्र में आरोप लगाया कि सूर्यांश हर रात घर से बाहर रहता है।

From around the web