पुलिस कमिश्नर ने थानेदार और सिपाही को किया निलंबित, झगड़े के प्रकरण में एक लाख रुपये लिए जाने का आरोप

 

कानपुर,। जनपद में कमिश्नर प्रणाली लागू होने के बाद पुलिस आयुक्त की सबसे बड़ी कार्रवाई अपने ही विभाग के थाना प्रभारी के खिलाफ देखने को मिली है। बुधवार को एक बियर दुकान में झगड़े के मामले में कल्याणपुर थाना प्रभारी व सिपाही को निलम्बित कर दिया गया है। दोनों के खिलाफ पुलिस आ​युक्त ने एडीसीपी को प्रकरण की जांच सौंपी है। 

जिले में नई व्यवस्था का असर दिखने लगा है। पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने जार्च संभालते हुए विभाग में कार्यरत छवि धूमिल कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही करने की बात को  सही साबित कर दिया है। आज उन्होंने कल्याणपुर थाना प्रभारी जर्नादन प्रताप सिंह व आरक्षी धीरेन्द्र सिंह को निलम्बित कर दिया। थानेदार व सिपाही पर बीते माह 28 मार्च को इलाके में एक बियर दुकान के पास हुए झगड़े के प्रकरण में एक लाख रुपये लिए जाने का आरोप था। 

मामला प्रकाश में आने पर पुलिस आयुक्त ने प्रकरण की जांच अपर पुलिस उपायुक्त अभिषेक अग्रवाल से कराई। प्रथम दृष्टया प्रकरण सही पाया गया। जिसके आधार पर आज पुलिस आयुक्त ने थानेदार जर्नादन प्रताप सिंह व सिपाही धीरेन्द्र सिंह का निलम्बन कर दिया। उन्होंने आरोपित थानेदार व सिपाही के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश देते हुए एडीसीपी डॉ. अनिल कुमार को जांच सौंपी है। पुलिस आयुक्त की इस कार्रवाई व सख्त रुख को देखते हुए जिलेभर के थानेदारों व पुलिस कर्मियों में खासा चर्चा का विषय बना हुआ है। 

From around the web