कौशाम्बीः बसपा नेता और निवर्तमान नप अध्यक्ष हिरासत में लिए गए, कार्यकर्ताओं ने घेरा एसपी दफ्तर  

 
1
कौशाम्बी। मंझनपुर नगर पालिका परिषद के चेयरमैन व बसपा नेता महताब आलम को हिरासत में लिए जाने का मामला बुधवार को तूल पकड़ लिया। नाराज बसपा जिला इकाई ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय का घेराव कर चेयरमैन को जल्द से जल्द रिहा करने की मांग उठाई। कार्यकर्ताओं ने एसपी अभिनंदन को एक ज्ञापन सौंपा। 
नगर पालिका परिषद मंझनपुर के निवर्तमान चेयरमैन व बसपा नेता महताब आलम मंगलवार को अपने चचेरे भाई मांस कारोबारी लल्लू की गिरफ्तारी की सिफारिश करने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे थे। एसपी से मुलाकात के पहले ही मंझनपुर पुलिस ने उन्हें वोटिंग हाल से हिरासत में ले लिया है।
परिजनों का आरोप है कि मंझनपुर पुलिस ने कस्टडी में लेकर कहां रखा है, इसकी जानकारी उन्हें नहीं दी जा रही है। परिवार के किसी भी सदस्य से उनको मिलने नहीं दिया जा रहा। मंझनपुर के पूर्व चेयरमैन व पिता नजीर अहमद ने बताया, मंझनपुर पुलिस एवं पुलिस अधिकारियों से पूंछने पर भी कोई जानकारी नहीं दी जा रही है। उन्हें यह तक नहीं जानकारी दी जा रही है कि किस जुर्म में निवर्तमान चेयरमैन को हिरासत में लिया गया है।
बसपा नेताओं ने घेरा एसपी दफ्तर
बसपा नेता महताब आलम को पुलिस कस्टडी में लिए जाने की खबर जैसे ही बहुजन समाज पार्टी की जिला इकाई को हुई। नेताओं में आक्रोश फैल गया। बुधवार को बसपा जिलाध्यक्ष संतोष गौतम के नेतृत्व में दर्जनों बसपा कार्यकर्ता एसपी दफ्तर के बाहर नारेबाजी करने लगे। नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल ने एसपी से मुलाकात कर बसपा नेता महताब आलम की जल्द से जल्द रिहाई की मांग की। एसपी ने नेताओं को आश्वासन दिया कि बिना ठोस सबूत के पुलिस उन्हें जेल नहीं भेजेगी। 
गो-तस्कर अजमेरी से तार तलाश रही पुलिस 
कोखराज पुलिस की मुठभेड़ में मंगलवार को गोली लगने के बाद गिरफ्त में आये गोतस्कर अजमेरी से पुलिस अफसरों को अहम सुराग मिले हैं। पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्र से मिली जानकारी के मुताबिक गो तस्कर अजमेरी की निशानदेही पर कई मांस कारोबारियों को पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने हिरासत में लेकर पूंछतांछ कर रही है। पूर्व नप चेयरमैन व पिता नजीर अहमद ने बताया, महताब आलम के चचेरे भाई लल्लू मांस का कारोबार करते है। पुलिस ने उन्हें दो दिन पहले हिरासत में ले लिया था, जिसकी पैरवी करने महताब आलम एसपी से मिलने उनके दफ्तर जाने को बताकर घर से निकले थे। 
पुलिस अफसरों ने साध रखा है मौन 
बसपा नेता महताब आलम को पुलिस कस्टडी में 24 घंटे से अधिक का समय बीत चुका है। पुलिस अधिकारी प्रकरण पर कुछ भी बोलने को तैयार नहींं है। बसपा नेता का नाम सुनते ही फोन कट कर दिया जा रहा है। 

 

From around the web