लखनऊः अभिलेखों में फेरबदल कर पुलिस में भर्ती कराने वाले गिरोह के तीन सदस्य आगरा से गिरफ्तार

 
1

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अन्तराज्यीय स्तर पर अभिलेखों में फेरबदल कर धोखाधड़ी से पुलिस विभाग मे भर्ती कराने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को आगरा पुलिस के संयुक्त अभियान में गिरफ्तार कर लिया।
एसटीएफ प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि एसटीएफ ने आगरा पुलिस के साथ संयुक्त अभियान के दौरान अन्र्तराज्यीय स्तर पर कूटरचित दस्तावेज के आधार पर धोखाधड़ी से पुलिस विभाग में भर्ती कराने वाले गिरोह के तीन सदस्यों अलीगढ़ निवासी अभिषेक कुमार ,पंकज कुमार और रामप्रकाश को आगरा के एत्माद्वौला इलाके में टेढ़ी बगिया तिराहे से आगरा की ओर अग्रवाल ट्रैडिंग कम्पनी के पास कल रात करीब सवा 21.15 बजे गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों के कब्जे से दो बाइक,तीन मोबाईल, आधार कार्ड , पैन कार्ड और अन्य दस्तावेज बरामद किए।
उन्होंने बताया कि काफी दिनों से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलो कूटरचित दस्तावेज एवं अभिलेखों में फेरबदल
कर धोखाधड़ी से मूल अभ्यर्थी के स्थान पर साल्वर को लिखित परीक्षा में बैठाकर पुलिस विभाग मे भर्ती कराने वाले अपराधियों के सक्रिय होने की सूचनायें प्राप्त हो रही थी। इस सम्बन्ध में एसटीएफ की विभिन्न टीमों को अभिसूचना संकलन कर कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया गया था। इसी क्रम में एसटीएफ के अपर पुलिस अधीक्षक राकेश के पर्यवेक्षण में निरीक्षक हुकुम सिंह के नेतृत्व में अभिसूचना संकलन की जा रही थी।
प्रवक्ता ने बताया कि कल रात सूचना मिलने पर आगरा की एत्माद्वौला पुलिस के साथ एसटीएफ की टीम ने
चेकिंग के दौरान बाइक सवार तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ पर गिरफ्तार किये गये फ्राड गैंग के सरगना अभिषेक कुमार ने बताया कि वह अपने साथी बुलंदशहर निवासी प्रिंस कुमार के साथ केडी कैम्पस कोचिंग
सेन्टर मुखर्जी नगर, दिल्ली में वर्ष 2018 में कोचिंग करता था, जिसको वह लेकर आया और अभ्यर्थी रजत कुमार, अमित कुमार एवं जितेन्द्र कुमार की पुलिस विभाग में आरक्षी पद पर भर्ती होने की लिखित परीक्षा दी थी, जिसमें रजत कुमार, अमित कुमार उक्त परीक्षा में पास होकर पुलिस विभाग में आरक्षी पद पर भर्ती हो गये तथा अभी पुलिस में ट्रेनिंग
कर रहे हैं। इस काम का भुगतान हमें नहीं मिल पाया है। आज अपना हिसाब किताब करने के लिये ये लोग इकट्ठा हुये थे और पकडे गये। गिरफ्तार आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

From around the web