कावड़ यात्रा: आस्था के मुद्दे पर स्वयं निर्णय ले समाज : योगी 

 
न


लखनऊ,। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि आस्था के मुद्दे पर समाज स्वयं ही निर्णय ले, यही उचित है। कांवड़ संघों की भावना का सम्मान होना चाहिए। राज्य सरकार सभी नागरिकों की आस्था का पूरा सम्मान करती है।
 उल्लेखनीय है कि कावड़ यात्रा को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने उप्र सरकार को 19 जुलाई को अपना पक्ष रखने का आदेश दिया था। इसे लेकर योगी सरकार ने अधिकारियों को कावड़ संघों से संवाद कर अंतिम निर्णय लेने को निर्देशित किया था। शनिवार को प्रदेशभर के प्रमुख संतों तथा कावड़ संघों ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए इसे स्थगित करने का विचार दिया है,  जिसे योगी सरकार ने सहर्ष स्वीकार्य  किया है।
 मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रावण मास की पावन कांवड़ यात्रा के संबंध में अधिकारियों से वार्ता के दौरान कांवड़ संघों ने कोरोना को देखते हुए इस वर्ष यात्रा स्थगित रखने का निर्णय लिया है, जो स्वागत योग्य है। अपर मुख्य सचिव 'सूचना' नवनीत सहगल ने शनिवार देर रात यह जानकारी दी थी कि कावड़ संघों द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार की अपील पर इस वर्ष कावड़ यात्रा को स्थगित कर दिया है।  एक सरकारी प्रवक्ता ने रविवार को कहा कि सरकार कांवड़ संघों की भावनाओं का पूरा सम्‍मान करती है। संघों का राज्‍य हित में उठाया गया कदम बहुत ही सराहनीय व एतिहासिक है। पिछले साल भी कांवड़ संघों ने कोरोना को देखते हुए अपनी कांवड़ यात्रा रद कर दी थी। सावन मास की धार्मिक परंपरा के तहत 25 जुलाई से कांवड़ यात्रा प्रस्तावित थी।

उन्होने कहा कि सरकार ने श्रावण मास की पावन कांवड़ यात्रा को लेकर कांवड़ संघों से बात की थी। कोरोना की संभावित तीसरी लहर को ध्‍यान में रखते हुए बातचीत के दौरान कांवड़ संघ ने इस साल भी यात्रा स्‍थगित रखने का निर्णय लिया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कावंड़ संघ की भावनाओं का सम्‍मान होना चाहिए। उन्‍होंने कांवड़ यात्रा स्‍थगित करने का जो निर्णय लिया है। वह बहुत ही सराहनीय है। सीएम ने कहा कि राज्‍य सरकार सभी नागरिकों की आस्‍था का पूरा सम्‍मान करती है।

उप्र के और सात जनपद कोरोना संक्रमण से मुक्त

रविवार को कोविड प्रबंधन को गठित टीम-9 की बैठक के बाद अपर मुख्य सूचिव 'सूचना' नवनीत सहगल ने बताया कि उत्तर प्रदेश के सात और जनपद अलीगढ़, चित्रकूट, हाथरस, कसगंज, महोबा, शामली और श्रावस्ती कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। 

उप्र के 47 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं

 उन्होंने बताया कि पिछले 24 घण्टे में किसी भी जिले से दोहरे अंक में नए केस की पुष्टि नहीं हुई। 47 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया, जबकि 28 जनपदों में इकाई अंक में मरीज पाए गए हैं।

पिछले 24 घण्टे में 56 नए मरीजों की पुष्टि

सहगल ने बताया कि पिछले 24 घंटे में 02 लाख 54 हजार 771 कोविड सैम्पल की जांच की गई और 56 नए मरीजों की पुष्टि हुई, जबकि 69 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। इस अवधि में पॉजिटिविटी दर 0.02 प्रतिशत रही। प्रदेश में कोरोना की रिकवरी दर 98.6 प्रतिशत है। अब तक 16 लाख 83 हजार से अधिक प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं।

कोविड परीक्षण कराकर ही यात्रा प्रारंभ करें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी की नियंत्रित स्थिति के बीच हमें अतिरिक्त सतर्कता बरतनी होगी। ऐसे में 03 फीसदी पॉजिटिविटी दर से अधिक वाले राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों के लिए नेगेटिव आरटीपीसीआर की रिपोर्ट अनिवार्य की जानी चाहिए। यह रिपोर्ट चार दिनों से अधिक पुरानी न हो। यह भी सुनिश्चित करें कि ऐसे राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाले लोग अपना कोविड परीक्षण कराकर ही यात्रा प्रारंभ करें। जो लोग टीकाकरण की दोनों खुराक प्राप्त कर चुके हों, उन्हें छूट दी जा सकती है। 

उन्होंने कहाकि सड़क, वायु, रेल मार्गों के अलावा निजी साधनों से आ रहे लोगों के लिए भी यह नियम लागू किए जाएं। हाई कोविड पॉजिटिविटी दर वाले राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों की गहन कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और टेस्टिंग की जाए। प्रदेश आगमन पर इनके एंटीजन टेस्ट और थर्मल स्कैनिंग जरूर किए जाएं। इस संबंध में दिशा-निर्देश आज ही जारी कर दिए जाएं। 

 मुख्यमंत्री ने कहाकि ब्लॉक प्रमुखों के शांतिपूर्ण निर्वाचन के बार अब सौहार्दपूर्ण माहौल में शपथ ग्रहण के लिए प्रबंध किए जाएं। ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज तथा गृह विभाग परस्पर समन्वय स्थापित कर शपथ ग्रहण के लिए व्यवस्था सुनिश्चित करें। कोविड प्रोटोकॉल का पूरा ध्यान रखा जाए।

From around the web