मानसून की विदाई के बाद प्रदूषण की गिरफ्त में वेस्ट यूपी और एनसीआर, महानगर का हुआ बुरा हाल

 
1
मेरठ। मानसून की विदाई क्या हुई अब प्रदूषण ने वेस्ट और एनसीआर पर अपना शिकंजा कस लिया है। दिनों दिन वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है। हालात ये हैं कि एक सप्ताह पहले तक जो वायु सूचकांक 40-50 के बीच था आज वो 200 तक पहुंच चुका है। इस तरह के हालात अमूमन पश्चिमी उप्र के सभी जिलों और राजधानी दिल्ली और एनसीआर के हो रहे हैं। अगर यहीं हालात रहे तो दीपावली तक वायु प्रदूषण काफी खतरनाक स्तर पर पहुंच सकता है। मौसम में आए इस बदलाव के साथ हवा की सेहत खराब होने का असर लोगों पर पड़ना शुरू हो चुका है। आंख में जलन के साथ ही खांसी और सांस लेने में कठिनाई महसूस हो रही है। एनसीआर में राजधानी दिल्ली और गाजियाबाद का एक्यूआई यानी वायु सूचकांक 200 के स्तर को पार कर गया है। मेरठ में जो वायु सूचकांक शनिवार को 160 तक था वह सोमवार को शाम तक 180 के स्तर पर पहुंच गया है। त्योहारी सीजन में वायु प्रदूषण के और अधिक बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।
कृषि मौसम वैज्ञानिक डा0 एन सुभाष ने बताया कि अब मौसम में तेजी के साथ परिवर्तन हो रहा है। इसके चलते एयर क्वालिटी इंडेक्स यानी एक्यूआई में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है। जिससे लोगों की सेहत पर इसका असर पड़ रहा है। वायु प्रदूषण के बढ़न से सांस और अस्थमा के रोगियों के लिए सांस लेने में परेशानी होती है। त्योहारी सीजन में हर साल हवा प्रदूषित होती है।
शहर            एक्यूआई        
नई दिल्ली         218
मेरठ             180
गाजियाबाद        220
नोएडा            196
ग्रेटर नोएडा        205  
बुलंदशहर          169
बागपत            185
शामली             174
मुजफ्फरनगर        162

From around the web