पहले चरण की नामांकन प्रक्रिया आज से शुरू, संवेदनशील स्थानों पर स्पेशल पुलिस फोर्स तैनात

 
7

मेरठ। विधानसभा चुनाव के पहले चरण का नामांकन आज से शुरू हो रहा है। मेरठ सहित वेस्ट की सभी 58 सीटों में नामांकन के दौरान सुरक्षा-व्यवस्था चुस्त दुरूस्त की गई है। चुनाव के दौरान जिले की सुरक्षा व्यवस्था काफी चुनौतीपूर्ण होती है। खासकर जिले के ग्रामीण इलाकों में मेरठ की सात विधानसभाओं में दो को छोड़कर बाकी पांच विधानसभाएं ग्रामीण इलाके में आती हैं। इनमें पुलिस ने अभी से होमवर्क करना शुरू कर दिया है।
मेरठ की सभी सातों विधानसभाओं के लिए आज से नामांकन प्रकिया शुरू हो रही है विधानसभा चुनाव में जिले की सात विधानसभाओं के अंतगर्त आने वाले 103 गांव काफी संवेदनशील माने जा रहे हैं। इन सभी गांवों की निगरानी अभी से शुरू की जा चुकी है। गांवों में किसी भी परिस्थिति और हिंसा से निपटने के लिए स्पेशल पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। ये स्पेशल पुलिसकर्मी इन गांवों की 24 घंटे निगरानी करेंगे। पुलिसकर्मियों को स्पेशल रूप से ट्रेनिंग दी जाएगी। जिससे जरूरत पड़ने पर ये अकेले ही मोर्चा संभाल सकें और फोर्स के मौके पर पहुंचने तक स्थिति पर नियंत्रण किए रखें।
बता दे कि मेरठ की 7 विधानसभा मेरठ शहर, दक्षिण, कैंट, सिवालखास, हस्तिनापुर, सरधना, किठौर विधानसभाओं में जिले के 479 गांव आते हैं। इनमें मेरठ शहर और मेरठ कैंट के इलाके ग्रामीण बाहुल्य नहीं हैं। जबकि अन्य 5 विधानसभाओं का क्षेत्र ग्रामीण बाहुल्य है। इन 479 गांवों में 103 गांव संवेदनशील माने गए हैं। इन गांवों को पुलिस और प्रशासन द्वारा चिन्हित किया गया है। स्थानीय खुफिया रिपोर्ट के अनुसार इन गांवों में आए दिन छोटी-छोटी बात पर झगड़ा हो सकता है। अब इन गांवों में स्पेशल ट्रेनिंग से लैस 80 पुलिसकर्मियों को लगाया गया है। पुलिस के साथ-साथ पैरामिलिट्री फोर्स,आरएएफ भी तैनात रहेगी। वहीं स्थानीय खुफिया विभाग एलआईयू और खुफिया विभाग भी बराबर नजर रखेगा। मेरठ जिले में 7 विधानसभा सीटों पर सबसे संवेदनशील गांव सरधना और किठौर विधानसभा में बताए जा रहे हैं।
करनावल, भदौड़ा सहित कई गांव शामिल कुख्यात उधम सिंह का करनावल गांव और योगेश का भदौड़ा गांव भी संवेदनशील सूची में शामिल है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि सरधना, किठौर, सिवालखास और हस्तिनापुर विधानसभा सीट पर पुलिस का ज्यादा फोकस रहेगा। जिन-जिन गांव में शातिर अपराधी रहते हैं। वहां पुलिस की नजर रहेगी।
हिंसा कराने वालों पर सख्त कार्रवाई :
एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि उन्माद और हिंसा फैलाने वालों को सख्त हिदायत दी है कि चुनाव में हिंसा या उन्माद करने या कराने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। ऐसे 550 लोगों को चिह्नित किया गया है, जो पूर्व में हिंसा में शामिल रहे हैं। इन लोगों पर भी नजर रखी जाएगी।

From around the web