राज्यपाल आनंदी सबेन पटेल ने किया 30 करोड़ रुपये की लागत से बने भवनों का लोकार्पण

 
1
मेरठ। राज्यपाल आनंदी सबेन पटेल ने आज चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में आयोजित ऑन लाइन कार्यक्रम में 30 करोड़ रुपये की लागत से बने भवनों का लोकार्पण किया। राज्यपाल आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को भी सम्मानित किया। राज्यपाल इस समारोह में ऑनलाइन मौजूद रहीं। बता दें कि लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के बाद किसानों में चल रहे उबाल को देखते हुए राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के मेरठ-हस्तिनापुर, बिजनौर और हापुड़ आने का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया था।  
चौधरी चरण सिंह विश्वविधालय के सुभाष चन्द्र बोस प्रेक्षागृह में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल ने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्रों में सबसे गरीब तबके के व्यक्ति होते हैं। आंगनबाड़ी कार्यकत्री को उनकी देखभाल करनी चाहिए। अगर उनके कपड़े का बटन टूट रहा है तो सुई-धागा से उसे ठीक कर दीजिये। छोटे-छोटे बच्चों को खिलोने प्रिय होते हैं। गणित और विज्ञान को सरलता से कैसे सिखाया जाए उसके लिए भी व्यवस्था की गई है। दीवारों पर पढ़ने लिखने की पेंटिंग बच्चों से कराएं। गांव में कितने बच्चे 3-5 वर्ष के हैं यह भी सर्वे कराए और उन्हें आंगनबाड़ी में लेकर आइये। उन्होंने कहा कि अभिभावकों को आंगनबाड़ी में बुलाइये। जिससे अभिभावकों को भी लगे कि उनका बच्चा खेल -खेल में सीख रहे हैं।
आगे बढ़कर करें बच्चों की सेवा
राज्यपाल ने कहा कि इनकम टैक्स देने वाले बढ़ रहे हैं। गरीब बढ़ रहे हैं। इस खाई को कम करने की आवश्यकता है। हमने इसी को लेकर सभी विश्वविद्यालयों को निर्देश दिए हैं कि आंगनबाड़ी केंद्रों को गोद लीजिये। वहीं, जो विश्वविद्यालय में छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं। उन्हें भी आंगनबाड़ी केंद्र में लेकर जाइये। वहीं, अपना जन्मदिन, शादी की सालगिरह आंगनबाड़ी केंद्र में जाकर मनाइये।
मेरा गांव कुपोषण मुक्त
उन्होंने जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि ग्राम प्रधानों को जिम्मेदारी देने की जरूरत है। सिर्फ नाली, सड़क नही, बल्कि कुपोषण से लड़ने की जरूरत है। मेरा गांव कुपोषण मुक्त गांव को अभियान के रूप में लीजिये।

From around the web