जम्मू-कश्मीर में शहीद हुआ मेरठ का लाल,रविवार को पैतृक गांव पहुंचेगा पार्थिव शरीर

 
1
मेरठ। देश की रक्षा करने के लिए हमारे जवान दिन-रात सीमा डटें रहते हैं और दुश्मनों से लोहा लेते हुए शहीद हो जाते हैं। देश उनके इस बलिदान को हमेशा याद रखेगा। आज भी ऐसा कुछ ऐसा ही हुआ है। जम्मू कश्मीर में मेरठ का लाल शनिवार को शहीद हो गया। जानकारी के अनुसार आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में मेरठ का लाल गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसके बाद उनका उपचार उधमपुर के सैनिक अस्पताल में हो रहा था। जिसके चलते उनके पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गांव लाया जाएगा, जहां सैनिक सम्मान के साथा उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।
अस्पताल पहुंचे मेजर की पत्नी और माता-पिता
बता दें कि मेरठ के कंकरखेड़ा निवासी मेजर मयंक विश्नोई घाटी में दुश्मनों से लोहा लेते हुए गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिसके चलते 27 अगस्त से उनका उधमपुर के सैनिक अस्पताल में इलाज चल रहा था। डाॅक्टरों की लाख कोशिशों के बाबजूद भी जवान को नहीं बचाया जा सका। मेजर की मौत की खबर सुनकर परिवार में कोहराम मच गया है। जानकारी के अनुसार कंकरखेड़ा शिवलोकपुरी निवासी रिटायर्ड सूबेदार वीरेंद्र बिश्नोई के पुत्र मेजर मयंक विश्नोई ने जम्मू कश्मीर के शोपियां में शनिवार सुबह वीरगति को प्राप्त की। मेजर की शहादत पर पूरे परिवार को गर्व है। लेकिन बेटे के चले जाने का दर्द मां-बाप के चेहरे पर साफ झलकता है। इसके साथ ही परिजनों ने बताया कि 27 अगस्त 2021 को शोपियां में दुश्मन से लोहा लेते हुए मयंक के सिर पर गोली लगी थी। जिसके चलते घटना की जानकारी परिजनों को दी गई थी। सूचना पर पिता बिरेंद्र विश्नोई, माता मधु बिश्नोई और पत्नी स्वाति विश्नोई उधमपुर पहुंच गए।

From around the web