''मां की तरह ही हिंदी को भी सम्मान देना चाहिए,यह भाषा नहीं हमारी मातृभाषा है''

 
1
मेरठ। पर्यावरण एवं स्वच्छता क्लब द्वारा हिंदी दिवस के अवसर पर डीएन डिग्री कॉलेज में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। क्लब निदेशक आयुष गोयल व पीयूष गोयल ने बताया हिंदी मात्र एक भाषा नहीं है हिंदी हमारी मातृभाषा है जिस प्रकार हम अपनी मां का सम्मान करते हैं उसी प्रकार हमें अपनी मातृभाषा हिंदी का भी सम्मान करना चाहिए। मुख्य अतिथि प्राचार्य डॉ0 बीएस यादव ने कहा हिंदी भाषा भारत में सर्वाधिक बोली जाती है। दुनिया की चौथी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा हिंदी है सभी लोगों को हिंदी बोलनी चाहिए और दूसरों को हिंदी बोलने के लिए प्रेरित करना चाहिए। अति विशिष्ट अतिथि डॉक्टर दीपा त्यागी विभागाध्यक्ष हिंदी विभाग इस्माइल पीजी कॉलेज ने कहा हिंदी हमारे हृदय की भाषा है क्योंकि हिंदी भाषा में बोलकर या लिखकर विचारों और मनोभावों को सरलता से प्रकट किया जा सकता है। हिंदी भाषा एक वैज्ञानिक भाषा है वैज्ञानिक भाषा होने के कारण ही हिंदी भाषा के वाचन और लेखन का निश्चित क्रम है हिंदी जिस प्रकार बोली जाती है उसी प्रकार लिखी जाती है।
डॉ0 सुंदरी वाला शर्मा एसोसिएट प्रोफेसर आरजी डिग्री कालिज ने कहा हिंदी जन जन की भाषा है।हिंदी हमारी पहचान है हिन्दी हमारी शान है अपने दैनिक जीवन में हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग करें। प्रसिद्ध कवि डॉ0 राम गोपाल भारतीय ने कहा हिंदी भाषा अपनाओ देश का गौरव बढ़ाओ उन्होंने अपने गीत गजलों के माध्यम से हिंदी का महत्व बताया।
 कार्यक्रम का संचालन लक्ष्मी शर्मा ने किया ने किया। कार्यक्रम में डॉ0 अंजुला जैन, डॉ0 अनिता कुशवाहा, डॉ0 वंदना शर्मा,लक्ष्मी शर्मा, डॉ0 वंदना गर्ग, भारतीय आनंद, डॉ0 प्रवीण कुमार, डॉक्टर सविता ,डॉ0 पृथ्वीराज सिंह, डॉ0 एमके यादव आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अंत में जूलॉजी विभाग की विभाग अध्यक्ष डॉ अंजुला जैन ने सभी को हिंदी हिंदी के संरक्षण एवं संवर्धन की शपथ दिलाई।

From around the web