कोहरे से चपेट में मेरठ और पश्चिमी उप्र के जिले, दृश्यता 50 मीटर तक पहुंची

 
y

मेरठ। मकर संक्रांति पर कोहरे से एनसीआर और वेस्ट के जिले ढके हुए हैं। कड़ाके की ठंड पड़ रही है। तापमान काफी नीचे आ गया है। मेरठ सहित पूरे वेस्ट यूपी और एनसीआर में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। पर्वतीय इलाकों से आ रही बर्फीली हवाओं ने ठंड के मौसम में और इजाफा कर दिया है। मौसम विभाग के अनुसार अभी ठंड ऐसे ही परेशान करेगी।
जनवरी के शुरूआती सप्ताह में हुई बारिश के बाद अब तापमान तेजी से नीचे की ओर जा रहा है। इस समय मेरठ सहित आसपास के जिलों का तापमान औसत से 8 डिग्री नीचे तक पहुंच गया है। ऐसा पहाड़ी इलाकों में हुई बर्फबारी के बार मैदानी इलाकों में आ रही बर्फीली हवाओं के कारण हो रहा है। मेरठ में गत रात्रि अधिकतम तापमान 14 डिग्री था। जो कि औसत से करीब 8 डिग्री कम रहा। अमूमन ऐसा ही हाल मेरठ के आसापास के जिलों का भी रहा। वहीं बात न्यूनतम तापमान की करें तो यह 4.2 डिग्री पर था। यह औसत से 3 डिग्री कम रहा। मौसम विभाग की माने तो आने वाले दो दिनों में ठंडे दिन की स्थिति के साथ घना या बहुत घना कोहरा होने का अनुमान मौसम विभाग ने जताया है। आज शुक्रवार देर रात से कोहरे का असर शुरू हो चुका था। कोहरे की वजह से हाइवे सहित कई जिलों में विजिबिलिटी 50 मीटर से कम रही, मेरठ में कई स्थानों पर विजिबिलिटी इससे भी कम पाई गई। वहीं, गाजियाबाद-एनसीआर में वाहन चालकों को अपनी गति धीमी करने के साथ फाग लाइट का भी सहारा लेना पड़ा।
मेरठ के साथ ही बुलंदशहर, हापुड, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद के साथ साथ अन्य जिले घने कोहरे की चपेट में है। मौसम विभाग के अनुसार आज शुक्रवार सुबह मेरठ और सहरनपुर मंडल के अलावा मुरादाबाद मंडल के जिलों में घना कोहरा छाया हुआ है। कोहरे की वजह से कई जिलों में आज शुक्रवार को सुबह विजिबिलिटी 50 मीटर तक रह गई। ग्रामीण इलाकों में तो पिछले कई दिनों से घने कोहरे की वजह से विजिबिलिटी पर बुरा असर पड़ रहा है। मौसम विभाग और यातायात विभाग ने वाहन चालकों को वाहन चलाते समय एहतियात बरतने की सलाह दी है।

From around the web