मेरठः मेडिकल प्रबंधन का बड़ा फैसला: इमरजेंसी में एक मरीज के साथ सिर्फ एक तीमारदार को एंट्री

 
1

मेरठ। लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों और मरीजों के तीमारदारों के बीच आए-दिन होने वाले विवादों पर मेडिकल प्रबंधन ने सख्त एक्शन लिया है। जिसके चलते अब मेडिकल की इमरजेंसी में एक मरीज के साथ सिर्फ एक तीमारदार को ही रहने की अनुमति दी जा रही है। इमरजेंसी में सुरक्षा गार्डों की संख्या बढ़ाते हुए फर्श पर डेरा डाले पड़े मरीजों के तीमारदारों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। जिसके बाद मंगलवार को इमरजेंसी के हालात बदले हुए नजर आए।

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ ज्ञानेंद्र कुमार ने बताया कि पिछले कई दिनों से मेडिकल में आए-दिन मरीजों के तीमारदारों द्वारा डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार के मामले सामने आ रहे थे। जिसके चलते इमरजेंसी में सुरक्षा गार्डों की संख्या बढ़ा दी गई है। इसी के साथ इमरजेंसी में एक मरीज के साथ सिर्फ एक तीमारदार को रहने की अनुमति दी जा रही है। हॉस्पिटल की इमरजेंसी में अतिरिक्त सुरक्षा गार्डों की तैनाती के साथ ही वहां के हालात भी बदलते नजर आए। सुरक्षा गार्डों ने इमरजेंसी में फर्श पर चादर बिछा कर पड़े मरीजों के कई-कई तीमारदारों को इमरजेंसी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। जिसके बाद जहां इमरजेंसी में साफ-सफाई नजर आई। वहीं व्यवस्थाएं भी काफी सुधरी हुई दिखाई दीं। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ ज्ञानेंद्र कुमार ने बताया कि फिलहाल इमरजेंसी में लगभग सौ बेड हैं। जिनमें संदिग्ध कोविड पेशेंट्स सहित अन्य मरीजों का उपचार किया जा रहा है।

From around the web