मेरठः ब्लैक फंगस के नए मरीज बढा रहे चिंता,दो और मरीजों की इलाज के दौरान मौत 

 
1
मेरठ। स्वास्थ्य विभाग की लाख कोशिशों के बावजूद भी ब्लैक फंगस पर अभी तक काबू नहीं पाया जा सका है। प्रतिदिन नए मरीज मिलने से फंगस से पीड़ित मरीजों की संख्या बढती जा रही है। जो कि प्रशासन के लिए चिंता का करण बनी हुई है। पिछले 24 घंटे में मेडिकल कालेज में ब्लैक फंगस के दो मरीजों की मौत हो गई। जबकि 20 से ज्यादा मरीज आक्सीजन सपोर्ट पर रखे हुए हैं। वहीं अब स्वास्थ्य विभाग जिले के सभी ईएनटी एवं नेत्र रोग विभाग की क्लीनिकल रिपोर्ट तलब कर रहा हैं जिससे मरीजों का आंकड़ा पता किया जा सके। 
मंडलीय सर्विलांस अधिकारी डा0 अशोक तालियान के अनुसार रोजाना आठ से दस नए मरीज मेडिकल कालेज पहुंच रहे हैं। इनमें से अधिकांश मरीज दूसरे जिलों के हैं। मेडिकल कालेज में इस समय 171 मरीजों का इलाज चल रहा है। इनमें सौ एक्टिव केस हैं और 58 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। मेडिकल कालेज के डा. वीपी सिंह ने बताया कि ब्लैक फंगस के नए मरीजों की संख्या में कमी आ रही है। संक्रमण खत्म होने के माहभर बाद ब्लैक फंगस के केस खत्म होंगे।
वहीं महानगर के दूसरे निजी अस्पतालों में भी ब्लैक फंगस के मरीज पहुंचे हैं। मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया है कि वार्ड में भर्ती मरीजों के लिए लाइपोसोमल एंफोटेरिसिन बी इंजेक्शन भरपूर मात्रा में उपलब्ध हैं, वहीं कई मरीजों को पोसोकोनोजोल टेबलेट दी जा रही है। करीब 20 मरीजों का आपरेशन किया जा चुका है। ईएनटी विशेषज्ञों का कहना है कि अनियंत्रित शुगर के मरीजों एवं ज्यादा स्टेरायड लेने वालों में ब्लैक फंगस का खतरा ज्यादा होता है।

From around the web