मेरठ: ’कोरोना को हराने के लिए जागरुक हों लोग’

 

मेरठ।  कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए लोगों को ही जागरूक होना पड़ेगा। शहर के गणमान्य लोगों का कहना है कि कोरोना गाइडलाइन का पालन किए बिना कोरोना को हराना असंभव है। नाइट कर्फ्य कोरोना को रोकने का विकल्प नहीं है।

बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए शहर के गणमान्यों ने लोगों से कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की अपील की है। वरिष्ठ समाजवादी गोपाल अग्रवाल का कहना है कि कोरोना को हराने के लोगों को खुद ही जागरूक होना पड़ेगा। घर से बाहर निकलने के लिए मास्क लगाना होगा। दो गज की शारीरिक दूरी का पालन करना चाहिए। बार-बार अपने हाथों को सेनेटाइज करते रहे। तभी कोरोना संक्रमण समाप्त किया जा सकता है। 

भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विनीत अग्रवाल शारदा का कहना है कि लोग अपने घरों से अनावश्यक रूप से बाहर ना निकलें। मास्क का प्रयोग करते रहे। व्यापारी हमेशा मास्क पहनें। दुकान पर आने वाले ग्राहक को भी मास्क पहनने को प्रेरित किया जाए। अगर हम सुरक्षित रहेंगे तो हमारा परिवार सुरक्षित रहेगा। हमारा परिवार सुरक्षित रहेगा तो देश सुरक्षित रहेगा। लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवानी चाहिए।

व्यापारी नेता सरदार परविंदर सिंह ईशू का कहना है कि कोरोना रोकने के लिए प्रशासन द्वारा लगाया गया नाइट कर्फ्यू कोई विकल्प नहीं है। लोग दिन में ज्यादा बाहर निकलते हैं। लोगों को जागरूक करके ही कोरोना संक्रमण को रोका जा सकता है।

शिक्षाविद डाॅ. स्नेहवीर पुंडीर का कहना है कि कोरोना को रोकने के लिए सभी आयु वर्गों के लिए वैक्सीनेशन शुरू होना जरूरी है। इससे सभी आयु वर्ग के लोग सुरक्षित होंगे। इससे भी ज्यादा जरूरी लोगों को मास्क का प्रयोग करना चाहिए।

मेरठ मंडप एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज गुप्ता और महामंत्री विपुल सिंघल का कहना है कि नाइट कफ्र्यू लगाने का प्रशासन का निर्णय समझ में नहीं आ रहा। कोरोना नाइट कफ्र्यू से नहीं, बल्कि जागरूकता से दूर होगी। रात्रि की बजाय दिन में भीड़ पर अंकुश लगाने का प्रयास करना चाहिए।

From around the web