मेरठः कोरोना काल में कायम हो रहीं इंसानियत की मिसाल, 'शाहिद' ने दिया 'संतोष' की अर्थी को कंधा

 
मेरठः कोरोना काल में कायम हो रहीं इंसानियत की मिसाल, 'शाहिद' ने दिया 'संतोष' की अर्थी को कंधा

मेरठ। देशभर में जहां कोरोना की दूसरी लहर के चलते हाहाकार मचा हुआ है। वहीं कोरोना काल में इंसानियत की भी कई मिसाल कायम हो रही हैं। ऐसा ही एक मामला सोमवार को पूर्वा फैयाज अली इलाके में देखने को मिला। जब अकेले रहने वाले एक शख्स की मौत के बाद मुस्लिम संप्रदाय के लोगों ने मृतक के अंतिम संस्कार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

दरअसल पूर्वा फैयाज अली में संतोष नाम के अधेड़ पिछले काफी सालों से अकेले रहते थे। परिवार में किसी व्यक्ति के ना होने के कारण क्षेत्र के लोग ही संतोष की देखभाल करते थे। सोमवार को बीमारी के चलते संतोष की मौत हो गई। किसी नाते-रिश्तेदार के मौके पर ना पहुंचने के कारण संतोष की पार्थिव देह को श्मशान घाट तक पहुंचाने वाला भी कोई नहीं था। ऐसे में समाजवादी पार्टी के शहर विधानसभा अध्यक्ष शाहिद पहलवान ने क्षेत्र के अन्य मुस्लिम लोगों के साथ मिलकर संतोष के क्रिया कर्म का बीड़ा उठाया। मुस्लिम संप्रदाय के लोगों ने अपने हाथों से अर्थी बनाई। इसके बाद संतोष की अर्थी को अपने कंधों पर सूरजकुंड श्मशान घाट पहुंचाया। जहां संतोष का अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान क्षेत्र के रहने वाले शहजाद कुरैशी, रिजवान कुरैशी, हाजी इकराम, शोएब, वाजिद, पप्पू, जफर रजा आदि मौजूद रहे।

From around the web