पोस्ट कोविड लोगों में शुगर की समस्या आउट ऑफ कंट्रोल, शरीर के अन्य अंगों को कर रहा प्रभावित 

 
1
मेरठ। जिन लोगों को कोरोना संक्रमण ने अपनी चपेट में लिया और वो अब ठीक भी हो गए हैं तो भी कुछ न कुछ स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं। सबसे अधिक परेशानी शुगर रोगियों को हो रही है। जिनमें पोस्ट कोविड समस्याएं विकराल रूप ले रही है। कई मरीजों को संक्रमण से होने के तीन से चार महीने बाद तक सांस लेने में तकलीफ, थकावट, सिर दर्द समेत कई अन्य परेशानियां बनी हुई है। वहीं अस्पतालों में आने वाले जिन रोगियों को यह परेशानियां हैं उनमें से अधिकतर के शरीर में शुगर आउट आफ कंट्रोल हो गया है। डॉक्टरों का कहना है कि अनियंत्रित शुगर स्तर से पोस्ट कोविड समस्याएं गंभीर बन रही है। ऐसे में मरीजों को अपने खान-पान को जीवनशैली को ठीक रखने की जरूरत है।    
मेडिकल कॉलेज के पोस्ट कोविड क्लीनिक में तैनात वरिष्ठ फीजिशियन डॉक्टर तुंगवीर सिंह आर्य बताते हैं कि कोरोना वायरस सीधे तौर पर पैंक्रियाज में इंसुलिन उत्पादित करने वाली कोशिकाओं पर असर डालते हैं। सेंटर में 6 से 10 पोस्ट कोविड मरीज शुगर के बढ़े हुए स्तर की समस्या के साथ आ रहे हैं। इन सभी रोगियों को लंबे समय से पोस्ट कोविड रोगों की परेशानी बनी हुई है। जिन रोगियों को कोविड के इलाज के दौरान स्ट्राइड दिए गए थे उनको यह परेशानी सबसे ज्यादा हो रही है।  
उन्होंने कहा कि बढ़ा हुआ शुगर स्तर शरीर के सभी अंगों को प्रभावित करता है। यही कारण है कि पोस्ट कोविड मरीजों को स्वस्थ होने में काफी समय लग रहा है। शुगर स्तर को नियंत्रित रखने के लिए मरीजों को दवाएं दी जा रही है, हालांकि कुछ रोगियों में यह समस्या लगातार बनी हुई है। कोरोना के इलाज के दौरान स्टेरॉयड के सेवन से भी मरीजों में शुगर की मात्रा बढ़ी है। जिन लोगों में डायबिटीज के लक्षण कभी नहीं थे, उनमें भी संक्रमण के बाद तेजी से शुगर के स्तर में इजाफा हुआ है। ऐसे में जो मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं सबसे पहले उनको शकुगर नियंत्रित रखने की दवाएं दी जा रही है। क्योंकि अगर बीमारी को पूरी तरह ठीक करना है तो बढ़े हुए स्तर को लगातार सामान्य रखने की जरूरत है।

From around the web