हवा की सेहत हुई और खराब आज ऐसा है पश्चिमी उप्र के इन जिलों के मौसम का हाल

 
ा

मेरठ। एक ओर जहां तापमान लगातार गिर रहा है वहीं दूसरी ओर हवा की सेहत भी खराब होती जा रही है। हवा की रफ्तार तेज होने से वायु गुणवत्ता में कुछ सुधार हुआ था लेकिन अब फिर से वातावरण को स्माग की चादर ढकने लगी है। इस समय गाजियाबाद, मेरठ, हापुड, बुलंदशहर, दिल्ली और एनसीआर के जिलों का बुरा हाल है। किसी भी जिले में एक्यूआई 270 से कम नहीं है।
आज फिर हवा की रफ्तार कुछ कम हुई तो हवा की सेहत खराब होने लगी। मेरठ और एनसीआर के शहरों में वायु गुणवत्ता इस समय 270 से अधिक है। वायु प्रदूषण कम करने के लिए महानगरों की सड़कों पर पानी का छिड़काव किया जा रहा है। लेकिन इसके बाद भी वायु प्रदूषण सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। इस कारण से लोगों की सेहत पर भी इसका असर पड़ रहा है। तापमान में आ रही कमी से ठंड भी बढ़ रही है। प्रदूषण और ठंड की मार से आम लोग खासकर बुजुर्ग और बच्चों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वायु प्रदूषण पिछले कई सप्ताह से कभी कम तो कभी ज्यादा हो रहा है। हवा के थमने और मौसम में बदलाव से ऐसे हालात बने हुए हैं। इसे लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया है। प्रदूषण बढ़ाने वाली इकाई जैसे निर्माण स्थल, औद्योगिक क्षेत्र व सड़कों की निगरानी बढ़ा दी गई है। उन स्थानों को चिह्नित किया जा रहा है, जहां आवश्यक कार्रवाई की जरूरत है। प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए जरूरी प्रयास किए जा रहे हैं।
वायु प्रदूषण के चलते तापमान में भी हल्का बदलाव आया है। इस समय मेरठ सहित पश्चिमी उप्र के तापमान में थोड़ी बढ़ोत्तरी हुई है। मेरठ का न्यूनतम तापमान 10 डिग्री तक पहुंच चुका है। वहीं मुजफ्फरनगर का तापमान 9:4,गाजियाबाद का न्यूनतम तापमान 10:5 डिग्री पर बना हुआ है। मौसम विभाग की माने तो प्रदूषण का असर ठंड पर और तापमान पर भी पड़ रहा है।

From around the web