पश्चिमी की 11 जिलों की 58 सीटों से तय होगा प्रदेश के अन्य जिलों के मतदाताओं का मूड

 
ब
मेरठ। चुनावी तिथियों की घोषणा हो चुकी है। पहले चरण में मेरठ, आगरा, अलीगढ़ मंडल सहित सहारनपुर मंडल के मुजफ्फरनगर और शामली जिले की विधानसभा सीटों पर चुनाव होने हैं। इन जिलों में 10 फरवरी को मतदान होगा। इन मंडल के 11 जिलों की 58 सीटों की सीट से प्रदेश के अन्य जिलों के मतदाताओं का मूड बनेगा। जो दलों की लय और ताल तय करेगी। जिसके भरोसे वह प्रदेश के अन्य छह चरणों में ताकत झोंक सकेंगे।
मेरठ मंडल के सभी 6 जिलों में आगामी 10 फरवरी को मतदान होंगे। मेरठ मंडल के छह जिलों के अलावा अन्य 11 जिलों में भी इसी दिन मतदान डाले जाएंगे। इनमें आगरा मंडल और अलीगढ़ मंडल की विधानसभा सीटें भी शामिल है। बता दें कि विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 58 सीटों पर मतदान होंगे। इन सीटों में मुजफ्फरनगर और शामली के अलावा बागपत जिले की भी विधानसभा सीटें शामिल हैं।
पहले चरण का मतदान बनाएगा माहौल :
10 फरवरी में पहले चरण का मतदान आगामी 6 चरणों के चुनाव का माहौल तय करेगा। इस चरण में पश्चिमी उप्र की सबसे संवेदनशील जिलों की विधानसभा सीटें शामिल हैं। पहले चरण में 11 जिलों की 58 सीटों पर चुनाव होंगे। इस जिलों में मेरठ, हापुड, शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, मेरठ हापुड़, गाजियाबाद, बुलंदशहर, मथुरा, आगरा और अलीगढ में मतदान डाले जाएंगे।
पश्चिम से शुरू होकर पूर्वांचल पर होगा समाप्त :
यूपी चुनाव 2022 की घोषणा चुनाव आयोग ने की तो इसके साथ ही प्रदेश की 18वीं विधानसभा के गठन की प्रक्रिया शुरू हो गई। प्रदेश में सात चरणों में मतदान होंगे। इसके लिए पहले चरण का चुनाव दस फरवरी होगा जिसमें 11 जिलों के मतदाता अपने मत का उपयोग करेंगे। निर्वाचन आयोग ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के 403 विधानसभा क्षेत्र के लिए मतदान का कार्यक्रम जारी किया। निर्वाचन आयोग के जारी किए गए कार्यक्रम के अनुसार प्रदेश में सात चरण में मतदान होगा। जबकि दस मार्च को परिणाम जारी होंगे। मतदान का क्रम पश्चिमी उत्तर प्रदेश से शुरू होगा और विभिन्न चरणों में यह रहेलखंड, ब्रज,मध्य,बुंदेलखंड के बाद पूर्वांचल पर जाकर समाप्त होगा।
14 को अधिसूचना और 10 को मतदान :
पहले चरण के चुनाव को लेकर 14 जनवरी को अधिसूचना जारी की जाएगी और 10 फरवरी को मतदान होगा। इसमें जिला निर्वाचन अधिकारी डीएम के. बालाजी ने दिशा-निर्देश जारी किए। निर्वाचन आयोग के निर्देशों के अनुसार जनपद में किसी भी प्रकार की चुनाव रैली, यात्रा आदि पर रोक रहेगी। इसके अलावा अन्य किसी भी प्रकार के चुनाव प्रचार को लेकर अनुमति जरूरी होगी।

From around the web