नॉएडा में 1761 मरीज आए सामने, 11 की हुई मौत, प्राधिकरण में भी कई मौत से छाया गम का माहौल 

 
न

नोएडा। कोरोना वायरस गौतमबुद्ध नगर को पूरी तरह अपनी चपेट में ले चुका है। मंगलवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक जिले में 1761 नए मरीज मिले हैं। जबकि पिछले 24 घंटे में 1670 संक्रमित ठीक होकर अस्पतालों से डिस्चार्ज होकर घर लौट गए हैं। वहीं मंगलवार को कोरोना से 11 लोगों की मौत हो गई ।

गौतमबुद्ध नगर के जिला निगरानी अधिकारी डॉ सुनील दोहरे ने बताया कि नोएडा में कोरोना महामारी ने इस साल और दूसरी लहर में मंगलवार को सर्वाधिक का रिकॉर्ड बनाया है। मंगलवार को जनपद में 1761 मरीजों की पुष्टि हुई है। इनका शहर के विभिन्न अस्पतालों, क्वारंटीन सेंटर और होम आइसोलेशन में इलाज शुरू कर दिया गया है। वहीं 11 लोगों की महामारी की वजह से जान गई। इसके साथ ही कुल मौतों की संख्या 261 हो गई है। पिछले 24 घंटे में 1670 लोग ठीक हुए हैं और अस्पतालों से घर लौट गए। 

जिले में सक्रिय मरीजों की संख्या अब भी सिर दर्द 

जिले में विभिन्न अस्पतालों और क्वारंटीन सेंटर में 8062 लोगों का इलाज चल रहा है। जनपद में कोरोना महामारी से ठीक होने वाले कुल लोगों की संख्या 39230 हो गई है।  गौतमबुध नगर में नए मरीजों की संख्या के लिहाज से दूसरी लहर में आज सर्वाधिक का रिकॉर्ड बना है। मई महीने के चारों दिन में औसतन 1500 से ज्यादा मरीज सामने आए हैं। लेकिन इस साल और दूसरी लहर में 1 दिन में 1761 मरीज मिलने से जिला प्रशासन सकते में है। 

प्रशासन की रणनीति हुई धराशाई

कोरोना को रोकने के लिए बनी सारी रणनीति धराशाई हो गई है। 200 से ज्यादा पुलिसकर्मी संक्रमित हैं। नोएडा प्राधिकरण में 60 से ज्यादा कर्मचारी कोरोना की चपेट में हैं। यमुना प्राधिकरण और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में भी सैकड़ों की संख्या में कर्मचारी और अफसर इस महामारी की मार झेल रहे हैं।   नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों-कर्मचारियों की मौत का सिलसिला भी लगातार जारी है। मंगलवार को जल विभाग में तैनात एक जेई समेत कुछ और कर्मचारियों की मौत हो गई। इससे पहले सोमवार को जल विभाग के ही एक वरिष्ठ प्रबंधक की मौत हुई थी।

नोएडा प्राधिकरण के जल विभाग में तैनात संदीप गर्ग(40) की मंगलवार को कोरोना से मौत हो गई। करीब एक सप्ताह पहले अस्पताल में भर्ती हुए थे। रात में इनकी तबियत अचानक बिगड़ गई जबकि मंगलवार तड़के कुछ सुधार होना शुरू हुआ था लेकिन कुछ घंटे बाद ही उन्होंने दम तोड़ दिया। इनके अलावा उद्यानकर्मी जगन सिंह (37) की भी कोरोना से मौत हो गई। इनके अलावा उद्यान विभाग में ही कार्यरत स्नेहलता की मौत हो गई। इनकी दो दिन पहले रिपोर्ट नेगेटिव आई थी लेकिन हार्ट अटैक से मौत हो गई। अधिकारियों ने बताया कि बिजली विभाग में तैनात बाबूराम, वर्क सर्किल-8 के मैनेजर नबाव सिह, सीईओ के पीए अरविंद यादव के पिता, सीईओ के निजी सचिव के पिता और जल विभाग में कार्यरत मैनेजर एपी वार्ष्णेय की पत्नी की कोरोना के कारण पिछले एक से दो दिन में मौत हुई है।

From around the web