स्वास्थ्य महानिदेशालय ने कोविड उपचार के लिए दवाओं की संस्तुति की

 
न
नोएडा। कोरोना पॉजिटिव, कोरोना लक्षण युक्त व्यक्ति जिनका कोविड टेस्ट नहीं हुआ है या अभी रिजल्ट पता नहीं अथवा टेस्ट कराया नहीं है, लक्षण विहीन, माइल्ड सिम्टोमैटिक, आईएलआई (इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस) या सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इंफेक्शन (सारी) के लक्षण युक्त लोगों के लिए उम्र के हिसाब से स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय ने उपचार के लिए कुछ दवाओं की संस्तुति की है। इन दवाओं की किट भी स्वास्थ्य विभाग ने तैयार की है। दवा की किट निगरानी समितियों, रेपिड रेस्पांस टीम (आरआरटी) और जांच केंद्रों के अलावा जनपद के सभी सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध कराई गई हैं।
जिला पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट डा. अमित कुमार ने बताया संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए गठित तकनीकी समिति की स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय में पिछले दिनों हुई बैठक में कुछ दवाओं की संस्तुति की गयी। उन्होंने बताया इस संबंध में महानिदेशालय की ओर से प्रदेश के सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों व जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को गाइडलाइन जारी की गयी है। जारी गाइड लाइन के अनुसार कोरोना लक्षण विहीन, माइल्ड सिम्टोमैटिक, आईएलआई या सारी के लक्षण युक्त 12 साल से ऊपर के लोगों के लिए इन दवाओं की संस्तुत की गयी है।
1. टेबलेट पेरासिटामोल 650 अथवा 500 मिलीग्राम की एक टेबलेट दिन में तीन बार पांच दिन के लिए।
2. टेबलेट आइवरमेक्टिन 12 मिलीग्राम की एक गोली वयस्क व्यक्तिों के लिए दिन में एक बार रात्रि के भोजन के उपराना पांच दिन के लिए (गर्भवती व धात्री महिलाओं तथा 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए यह नहीं दी जानी है)
3 टेबलेट एजिथ्रोमायसिन 500 मिलीग्राम दिन में एक बार पांच दिन के लिए।
4. टेबलेट विटामिन-सी. वयस्क व्यक्ति के लिए 500 मिलीग्राम एक गोली दिन में एक बार भोजन के उपरान्त सात दिन के लिए ।
5. टेबलेट / कैप्सूल विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, वयस्क व्यक्ति के लिए एक टेबलेट / कैप्सूल दिन में एक बार साथ दिन के लिए।
6. विटामिन डी-3. वयस्क व्यक्ति के लिए 60,000 यूनिट हर सप्ताह में एक बार दूध अथवा पानी के साथ तीन सप्ताह तक।
7. सांस संबंधई व्यायाम / योग / प्राणायाम दिन में 20 से 30 मिनट तक करें (यदि सहज महसूस कर रहे हो तभी करें)
8. दिन में तीन से चार बार ऑक्सीजन सैचुरेशन (पल्स ऑक्सीमीटर से) अवश्य नापें। ऑक्सीजन सैचुरेशन 94 प्रतिशत अथवा इससे अधिक होना चाहिए।
9 वयस्क व्यक्ति तीन से चार लीटर पानी पर्याप्त मात्रा में हल्का गर्म / गुनगुना पियें।
यदि कोई व्यक्ति पूर्व में डायबिटीज, उच्च रक्तचाप अथवा अन्य किसी क्रॉनिक (दीर्घावधि) बीमारी के लिए उपचार ले रहा हो तो उसे अपने चिकित्सक के परामर्श कर जरूर करे।
6 से 12 वर्ष आयु के बच्चों के लिए संस्तुत दवा
टेबलेट पैरासीटामॉल (500 मिग्रा.)  (आधी गोली दिन में तीन बार के अन्तराल पर) यह दवा बुखार आने की स्थिति में देनी है, खाली पेट दवा न दें। मल्टी विटामिन टेबलेट -एक गोली दिन में एक बार रात को सोने से पहले तीन दिन तक दी जानी है। आइवरमेक्टिन टेबलेट (6 मिग्रा) रात को खाने के एक घंटे बाद तीन दिन तक दी जानी है। ओआरएस घोल-दस्त होने की स्थिति में एक लीटर पानी को उबाल कर ठंडा कर लें, इसके बाद इस पानी में एक पूरा ओआरएस पैकेट घोल कर एक बर्तन में ढक कर रखें। इस घोल को हर बार दस्त होने के बाद थोड़ी-थोड़ी मात्रा में बच्चे को दें।
डा. अमित कुमार कहा दिन में तीन से चार बार बच्चे का ऑक्सीजन सैचुरेशन (पल्स ऑक्सीमीटर से अवश्य नापे) ऑक्सीजन सैचुरेशन 94 प्रतिशत अथवा इससे अधिक होना चाहिए। अगर बच्चे को अधिक खाँसी आये, पसली चलती प्रतीत हो रही हो, बच्चा खाना-पीना बंद कर दे, बच्चे को तेज बुखार हो अथवा दस्त न रुके तो तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर लेकर जाएँ। बच्चे की जाँच के उपरांत अग्रिम उपचार के लिए आवश्यक दवा उपलब्ध कराई जाएगी।

From around the web