पीएमएमवीवाई सप्ताह में सीएचसी बिसरख के प्रदेश में अव्वल आने पर एमओआईसी बोले, उपलब्धि का श्रेय समस्त स्टाफ को 

 
1
नोएडा। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के तहत एक से सात सितम्बर तक मनाए गए सप्ताह में उपलब्धि के मामले में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बिसरख के प्रदेश में अव्वल आने पर प्रभारी चिकित्सा अधिकारी सहित समस्त स्टाफ बेहद खुश है। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी इस उपलब्धि का श्रेय अपने पूरे स्टाफ को देते हैं।  
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बिसरख के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी (एमओआईसी) डा. सचिन्द्र कुमार मिश्रा ने कहा कि वह पीएमएमवीवाई के तहत मनाए गए सप्ताह के शुरू में ही आशांवित थे कि सीएचसी बिसरख प्रदेश की रैंकिंग में प्रथम स्थान प्राप्त करेगा। उन्होंने कहा कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सुनील कुमार शर्मा और योजना के नोडल अधिकारी डा. भारत भूषण के मार्गदर्शन में उन्होंने शुरुआत से ही ठान ली थी कि हर हाल में प्रथम आना है। उन्होंने इसी हिसाब से अपनी कार्ययोजना भी बनायी। स्टाफ के साथ मीटिंग कर अपना इरादा जाहिर किया जिस पर पूरे स्टाफ ने पूरी लगन और मेहनत के साथ काम करने का भरोसा दिया। डा. मिश्रा ने बताया इसी भरोसे के बल पर सप्ताह शुरू होने से पहले उन्होंने 28 अगस्त को आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में प्रथम आने का विश्वास दिलाया था।
डा. मिश्रा बताते हैं कि सप्ताह के पहले ही दिन से उन्होंने पूरे प्रदेश भर के रुझान को देखना शुरू कर दिया था। वह रोजाना देखते थे कि कहां सबसे ज्यादा फार्म भरे गये हैं बस उसी हिसाब से अपना टारगेट बढ़ाते रहे। उन्होंने सभी आशा कार्यकर्ताओं और आशा संगिनी को प्रतिदिन योजना के 20 फार्म भरने का लक्ष्य दिया।  ब्लॉक में 167 आशा कार्यकर्ता हैं। सभी ने पूरी मेहनत और लगन से काम किया और नतीजा हमारी आशा के अनुकूल रहा। उन्होंने कहा कि जब हमने ठान लिया कि हर हाल में नंबर एक पर रहना है तो न तो किसी तरह फार्मों की कमी आने दी और न ही फार्म फीड करने में कोई कोताही बरती गयी। देर रात तक वह खुद बैठकर फार्म फीड करवाते थे। उन्होंने कहा कि इस उपलब्धि को हासिल करने में आशा और आशा संगिनी का तो साथ रहा ही पर विशेष योगदान उनके ब्लाक प्रोग्राम मैनेजर सत्यार्थ कुमार राय, अपर शोध अधिकारी एसआर राना, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी सुनीता यादव, फार्मासिस्ट संजीव शर्मा, डाटा एंट्री ऑपरेटर रविन्द्र शुक्ला सहित पूरे स्टाफ का रहा। उन्होंने बताया ब्लॉक में सबसे ज्यादा फार्म सूरजपुर की आशा कार्यकर्ता सरला ने 54 फार्म भरे, निठारी की आशा कार्यकर्ता संजू ने 48 और अछेजा की अनीता ने 23 फार्म भरे। इनके अलावा अन्य आशा कार्यकर्ताओं का भी पूरा योगदान रहा। सीएचसी के स्टाफ का कहना है कि डा. मिश्रा के कुशल नेतृत्व में यह सब सम्भव हो सका।
डा. मिश्रा कहते हैं कि यदि ठान लिया जाए तो कोई भी उपलब्धि हासिल करना मुश्किल नहीं होता। इसी वजह से सीएचसी बिसरख सन् 2019 में मनाए गए योजना के सप्ताह में भी प्रदेश में अव्वल रही थी। सीएचसी बिसरख को इस वर्ष कायाकल्प अवार्ड भी मिला है।

From around the web