दर्दनाक हादसा: केमिकल टैंक में सफाई करने उतरे मजदूरों की मौत, परिवार में पसरा सन्नाटा

 
1
नोएडा। जनपद के एक क्षेत्र में दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है, जहां जहरीली गैसे से दम घुटने के कारण दो लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। जिसके बाद दोनों को जल्द ही केमिकल टैंक से बाहर निकालकर अस्पताल भेजा गया, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। अस्पताल पहुंचते ही डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। दोनों की मौत के बाद से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। इसके साथ ही परिवार ने फैक्टरी के मालिक और ठेकेदार पर लापरवाही का आरोप लगाकर पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई है। जिसके बाद से पुलिस मामले की जांच में जुट गई।
ये है पूरा मामला
बता दें कि कासना थाना क्षेत्र के औद्योगिक क्षेत्र साइट-5 स्थित जगदंबा केमिकल फैक्टरी में मंगलवार देर रात केमिकल टैंक की साफ-सफाई के लिए चार लोगों को ठेकेदार और फैक्ट्री के मालिक ने बुलाया था। बांदा जिला निवासी रविंद्र ने बताया कि मंगलवार रात क्षेत्र साइट-5 स्थित केमिकल फैक्टरी का ठेकेदार हेमंत उनके घर आया था। इस दौरान ​हेमंत रविंद्र, उसके मौसा रामभेष, मौसेरा भाई पंकज और रमेश को 6000 रुपये का लालच देकर फैक्टरी में बुलाकर ले गया। इस दौरान ठेकेदार और फैक्टरी मालिक सुरेंद्र गुप्ता ने चारों से केमिकल टैंक की सफाई के लिए कहा। इसके साथ ही चारों के इनकार करने पर भी वह जिद पर अड़ गए। उन्होंने कहा कि इसमें कोई परेशानी नहीं होती है, इससे पहले भी वह कई बार टैंक की सफाई करा चुके हैं।
पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा
इसके बाद रामभेष और पंकज सफाई करने के लिए टैंक में उतर गए। इस दौरान ठेकेदार और फैक्टरी मालिक ने उन्हें न तो कोई सेफ्टी बेल्ट और न ही कोई मास्क दिया। जिसके चलते जहरीली गैस की वजह से दम घुटने के कारण कुछ मिनटों में ही दोनों बेहोश हो गए। उन्हें बाहर निकाल कर अस्पताल ले जाया गया जहां दोनों को मृत घोषित कर दिया। इसके साथ ही दोनों को बचाने के लिए रविंद्र भी टैंक में कूद गए तो वहां उसकी भी हालत बिगड़ने लगी। जिसके चलते समय रहते वह जल्द ही बाहर निकल आया। इसके बाद परिजनों ने ठेकेदार और फैक्टरी मालिक पर आरोप लगाकर हंगामा किया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मामले में केस दर्ज कर लिया है। वहीं पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया।

From around the web